QR Code को Print करते समय इन 6 नियमो का पालन करे, और पाए अधिक स्कैन

मैं जनता हूँ की आप QR code को Print करने के लिए दिशानिर्देशों को ढूंढ रहे है, पर एक नजर डालते है कुछ सामन्य बाते जो QR code से सम्बंधित है।

पिछले कुछ वर्षों से QR code को लोगो के बीच और खास तौर से marketing के लिए बहुत पसंद किया जा रहा हैं। हालाँकि, कुछ QR codes अभी भी सीमित सफलता के गवाह हैं, यह प्रिंटिंग दिशानिर्देशों का पालन नहीं करने सहित कई कारकों का परिणाम हो सकता है।

प्रिंटर को QR code को छपने के लिए विशेष software की आवश्यकता नहीं होती है, केवल QR code को उत्पन्न करने के लिए आवश्यक टूल को छोड़कर। जब तक आपके पास QR code की एक image फ़ाइल है, तब तक आप इसे कही भी छाप सकते हैं।

top 6 QR code printing guidelines

ज्यादा समय ना लेते हुए सीधे देखते है, top six QR code printing guidelines.

1. छोटा क्यूआर कोड बेहतर प्रदर्शन करता है

छोटा QR code से मेरा मतलब है, कम डाटा वाले QR code, आप अपने QR code में बहुत ज्यादा डाटा जैसे की ढेर सरि Paragraphs और लम्बी URL रखने से बचे, ऐसा करने से आप का QR code हमेशा बेहतर काम करेगा।

error-in-qr-code-by-data-density

हालाँकि अगर आप को एक बड़े डाटा वाले QR code की जरुरत है तो आप को Error Correction Level को सब से Low रखना चाहिए।

आप के मन में ये सवाल जरूर आ रहा होगा की ये Error Correction Level क्या है, आइये एक नजर डालते है QR code में Error Correction Levels पर।

also read:- Difference Between HTTP And HTTPS In Hindi

यदि आप के लगाए गए किसी QR कोड पर धूल जम जाता है या फिर क्षतिग्रस्त हो जाता है, तो डेटा को पुनर्स्थापित करने के लिए QR कोड में Error Correction Levels का उपयोग होता है।

जिस का का सामन्य सा मतलब है – QR code की शुद्धता। आप QR code में Error Correction Level को जितना High चुनेंगे, उतना ही storage छमता कम होते जाएगी। और ऐसे ही आप जितना low चुनेंगे आप को उतना ही ज्यादा डाटा को store करने की छमता मिलेगी।

मुख्यतः QR code में 4 Error Correction Levels उपलब्ध है – L, M, Q, H. जहा L मतलब Low, M मतलब  Medium, Q मतलब  Quartile और H मतलब High है।

सारे Levels की अपनी डाटा Restore करने की छमता अलग है, निचे दिए गए टेबल में आप देख सकते है।

Error Correction LevelData restoring capacity
L – low7% of data bytes can be restored.
M – medium15% of data bytes can be restored.
Q – quartile25% of data bytes can be restored.
H – high30% of data bytes can be restored.

उदहारण के लिए अगर आप M – medium चुनते है, तो आप का प्रिंट किया हुआ QR code 15% तक फटने के बाद भी काम करता रहेगा।

damaged-working-qr-code

इसलिए आप को Error Correction Levels को अपने काम के छेत्र के अनुसार भी चुनना चाहिए – एक और उदहारण – यदि आप QR code एक industrial area के लिए बना रहे है जहा धूल कण जायदा है, और संभावना है की आप का QR code गन्दा होगा – तो आप को H -high चुनना चाहिए। ताकि QR code पर थोड़ा बहुत धूल जमने के बाद भी वो काम करता रहे।

Error correction levels के कारण ही क्यूआर कोड में Color, Logo और अन्य विशेषताओं को शामिल करना संभव है।

2. रंग को जितना संभव हो उतना गहरा रखें

QR code बनाते समय रंगो का खास ध्यान रखे, सरे उपयोग किया हुआ रंग जितना गहरा हो उतना अच्छा। ध्यान रहे आप के QR code में forground color हमेशा background color से गाढ़ा होना चाहिए।  यदि आप ऐसा नहीं करते है तो संभव है की कुछ QR code scanners आप के QR code को ठीक से स्कैन नहीं के पाएंगे।

read also:- Jio Meet App Kya Hai? Jio Meet Ko Kaise Istemaal Karte Hai

साथ ही जब आप QR code बना रहे हो, तो आप को high quality image या vector form of QR code को ही डाउनलोड करना चाहिए।

3. Colour, Gradient और Logo के साथ QR code

यदि आप एक Logo को एक QR code में एम्बेड करना चाहते हैं, तो हमेशा Error Correction Level को H – High रखे, यहां तक कि जब आप रंगों इस्तेमाल कर रहे हो तब भी।

different types of qr code

4. QR code के आस-पास के जगहों का ख्याल रखे

आस-पास के जगहों से मेरा मतलब है – की ये QR code कहाँ Print होने वाला या लगने वाला है। उदहारण के लिए – यदि आप को अपने QR code को हरे रंग के किसी बोतल या बैनर पर छपने वाले है, तो आप अपने QR code को हरे रंग या हरे जैसे रंग में नहीं बनायेगे।

5. QR code के साइज का रखे खास ख्याल

बहुत ज्यादा छोटा या बड़ा QR code आप के लिए घातक हो सकता है, QR code को छापते या उपयोग करते समय standard size का खास ध्यान रखे। आप को अपने QR code को  7×7 mm से छोटा नहीं रखना चाहिए। एक standard QR code का Size 32×32 mm या 1.25×1.25 inch होता है।

साथ ही आप को सुनिश्चित करना चाहिए की आप का QR code 1×1 ratio में है। यहाँ 1×1 ratio से मतलब – जितनी लम्बाई उतनी ही चौड़ाई।

6. QR code को रखते या लगते समय, reflective सतहों से बचें

विशेष रूप से ध्यान दें कि जब एक ग्लास के पीछे एक QR code चिपका होता है, तो प्रतिबिंब हो सकता है, जिससे कि QR code को डिकोड करते समय कैमरे को समस्या हो सकती है।

यदि आप ने सभी मुख्य दिशानिदर्शो को पढ़ लिया है तो संभव है की आप सोच रहे होंगे की – मैं अच्छा QR code कहा से बना सकता हूँ?

इसके लिए Intenet पर कई सरि Website और Tools उपलब्ध है, जहा आप फ्री में या थोड़े ही पैसो में अपना मन चाहा QR code बना सकते है। 

लेकिन मैं यहाँ एक online tool के बारे में लिख रहा हूँ, जहा आप free में सभी प्रकार के QR code बना सकते है। आप अपने जरुरत के हिसाब से Colours और Logo के साथ अपना custom unique QR code इस get free qr code से बना सकते है, जो की एक शानदार free, custom QR code generator tool है।

निष्कर्ष:

QR code को प्रिंट करने और उसका उपयोग करने के लिए उपरोक्त सुझावों से आपको सब कुछ समझने में मदद मिलेगी। हालांकि, जब संदेह हो, तो अपने QR code का परीक्षण करना न भूलें!

"Hey, I’m Mangesh Kumar Bhardwaj, A Full Time Blogger , YouTuber, Affiliate Marketer and Founder of BloggingQnA.com and YouTube Channel. A guy from the crowded streets of India who loves to eat, both food and digital marketing. In the world of pop and rap, I listen to Ragni."

Leave a Comment

3 Shares
Share via
Copy link
Powered by Social Snap