Otto Wichterle in Hindi – कौन है ओटो विचटेरले (पूरी जानकारी हिंदी में)

Otto Wichterle Biography in Hindi – हेलो दोस्तों! Otto Wichterle कोन है क्या आप जानते हैं नहीं तो कोई बात नहीं मैं आपको आज इस आर्टिकल में Otto Wichterle in Hindi के बारे में जानकारी देने वाला हूं आज मैं आपको बताऊंगा की ये इंसान कौन थे और उन्होंने किस चीज का आविष्कार किया था।

Otto Wichterle का जन्म 27 अक्टूबर 1913 को प्रोस्तोजोयो, मोराविया ऑस्ट्रिया हंगरी में हुआ था। फोटो एक बहुत ही बड़े विज्ञानिक थे और उन्होंने आधुनिक सॉफ्ट लेंस का आविष्कार किया था जो कि उस समय कुछ अलग कुछ नया अविष्कार हुआ था और उस अविष्कार के लिए Otto Wichterle बहुत ही ज्यादा मशहूर भी हुए थे।

आज हमारे इतने महान वैज्ञानिक का जन्मदिन है और इस खास मौके पर खुद गूगल के सर्च इंजन में उन्हें श्रद्धांजलि देने के लिए अपने मुख पेज पर गूगल डूडल बनाया है। हमारी दुनिया में कई सारे लोग रहते हैं और उनमें से कई सारे लोग कांटेक्ट लेंस का इस्तेमाल भी करते हैं अगर उनमें से आप भी है तो ये Otto Wichterle का ही देन है उन्होंने कांटेक्ट लेंस का आविष्कार किया जिसकी मदद से आज इस चीज का इस्तेमाल कर रहे हैं और यह चीज बड़ी ही काम में आ रही है।

हम सब Google Doodle के साथ में Otto Wichterle का 108 वां जन्मदिन मनाया जा रहा है बहुत ही बड़ी बात है खुद गूगल में Otto Wichterle का जन्मदिन अपनी मुख्य पेज पर लगाया है आज इस आर्टिकल के अंदर Otto Wichterle के बारे में जानकारी जानेंगे और Otto Wichterle ने कैसे और कब कांटेक्ट लेंस को बनाया ये भी हम इस आर्टिकल में जानेंगे।

Otto Wichterle कोन है? – Otto Wichterle in Hindi 

सबसे पहले हम यह जानते हैं कि Otto Wichterle आखिरकार कौन थे दोस्तों ऑटो का जन्म 27 अक्टूबर 1930 ऑस्ट्रेलिया हंगरी में हुआ था इन्होंने अपनी हाई स्कूल खत्म करने के बाद अपने करियर के बारे में काम करना शुरू कर दिया था इन्हें मशीनों से बाद अगर प्यार था और यह बड़े होकर विज्ञानिक बनना चाहते थे जो कि यह बनी और बहुत ही महान विज्ञानिक बने।

Otto Wichterle के पिता केरल जो कि एक बहुत ही सफल फॉर्म मशीन फैक्ट्री और छोटे कार प्लांट के मालिक हुआ करते थे लेकिन औरतों ने अपने करियर को फॉर्म मशीन फैक्ट्री या फिर कार प्लांट में नहीं चुना बल्कि उन्होंने अपने करियर को विज्ञानी चीज में चुनाव और यह बड़े होकर एक बड़े सफल विज्ञानिक बने।

Otto Wichterle अपना हाईस्कूल खत्म करने के बाद इन्होंने आगे की पढ़ाई के लिए चेक तकनीकी विश्वविद्यालय जो कि आज के समय में स्वतंत्र रसायन विज्ञान और प्रोघोकिकी विश्वविद्यालय प्राग के नाम से है उसमें रासायनिक और तकनीक की संकाय में अपना पढ़ाई शुरू कर दिया था और में आपको बता दूं Otto Wichterle को चिकित्सा में भी काफी ज्यादा रुचि था।

Otto Wichterle ने बहुत ही कम उम्र से ही विज्ञान को पढ़ना शुरू कर दिया था और उस चीज में जाना शुरू कर दिया था ऑटो में साल 1936 में प्राग इंस्ट्यूट ऑफ केमिकल टेक्नोलॉजी में जैविक रसायन विज्ञान में एक ट्रैक्टर की डिग्री को प्राप्त किया था जो क्योंकि वह बहुत बड़ी बात थी।

Otto Wichterle जी सिर्फ कांटेक्ट लेंस को नहीं बनाया था इन्होंने बहुत सारी चीजों का आविष्कार किया था साल 1941 में Otto Wichterle में अपने दोस्तों के साथ मिलकर पोलियामयद धागे को फकने और सपुल करने की प्रक्रिया को बनाया था कि गुस्से में काफी ज्यादा नहीं आता और इस प्रकार सीलोन नाम के तहत उन्होंने पहला चेकोस्लोवाक सिंथेटिक फाइबर को बनाया था।

Otto Wichterle के Achievements 

चलिए तो मैं आपको अब बताता हूं कि Otto Wichterle ने अपने पूरे जीवन में क्या-क्या आविष्कार किया था। इन्होंने कांटेक्ट लेंस की शुरुआत बहुत पहले करती थी अगर आप आज के समय में कांटेक्ट लेंस को इस्तेमाल करते हैं तो वह सिर्फ इनकी देना कॉन्टैक्ट लेंस को बनाने वाला सबसे पहला इंसान Otto Wichterle है।

इन्होंने अपने पूरे जीवन काल में बहुत सारी चीजें को बनाया है और वह सारी चीजें आज के समय में काफी उपयोगी साबित होती है उन्होंने कांटेक्ट लेंस के साथ-साथ ऐसे कई सारी चीजों को पार किया जिसकी आज के समय में बहुत ज्यादा है और आज के समय के लोग को उनके बनाए गए जियो से काफी ज्यादा मदद मिल रही है मैं आपको उनके Achievements के बारे में बताता हूं।

  • जब दुनिया में World War 2 खत्म हो गया था उसके बाद Otto Wichterle में अपने विश्वविद्यालय में लौट आए थे और उसके बाद उन्होंने जैविक रसायन विज्ञान में डिग्री ली और रामानय अकार्बनिक रसायन विज्ञान पड़ने में सक्रिय भी हुए थे।
  • क्या आप जानते हैं Otto Wichterle को लिखने का भी बहुत शौक था और उन्होंने पहली बार Inorganic रायसन शास्त्र पाठ्य पुस्तक लिखी थी जो कि ऐसा माना जाता था जिसकी अवधारणा अपने समय से आगे की थी Otto Wichterle को कई सारी भाषाओं की जानकारी थी जिसकी वजह से उन्होंने German और Czech Organic में पाठ्य पुस्तक में भी लिखी थी।
  • साल 1950 मैं Otto Wichterle ने अल्मा मेटर में एक प्रोफेसर के रूप में पढ़ाया था यह उनके लिए बहुत ही ज्यादा गर्व की बात थी क्योंकि उनकी उम्र उतनी नहीं थी और वह बहुत ही कम उम्र में बहुत सारा ज्ञान हासिल कर चुके हैं।
  • कुछ राजनीतिक विकास के कारण Otto Wichterle को एक संस्था जिसका नाम ICT था वहा से इनको निकाल दिया गया था लेकिन इन्होंने अपनी पढ़ाई को जारी रखा और इन्होंने अपने घर से ही हाइड्रोजन विकसित करना चालू कर दिया साल 1942 में गेस्टपो (Czech के पुलिस वाले) ने Otto Wichterle को जेल में कैद कर लिया था लेकिन कुछ समय के बाद ही नहीं रिहा भी कर दिया था।
  • जिसके बाद साल 1961 में Otto Wichterle ने अपना सबसे पहला सॉफ्ट कांटेक्ट लेंस बनया और उन्होंने खुद चश्मा पहना हुआ था जिसकी वजह से उन्हें लगा कि अगर इस तरीके की कोई भी चीज बनाई जाती है तो बहुत सारे लोगों को चश्मा करने की जरूरत नहीं होगी और भी एक बहुत ही ज्यादा काम में आ सकती है इसी सोच को लेकर Otto Wichterle में कांटेक्ट लेंस को बनाया।
  • इस कांटेक्ट लेंस को बनाने के लिए कई सारी चीजों को साथ में जोड़ा गया जैसे कि इस शॉप कांटेक्ट लेंस को बच्चों के इरेक्टर सेट, साइकिल लाइट बैटरी, फोनोग्राफ मोटर और घरेलू ग्लास ट्यूब और मोल्ड से बने d.i.y. उपकरण के साथ में बनाया गया।
  • दुनिया में चश्मे को हटाकर कांटेक्ट लेंस बनाने वाले शख्स Otto Wichterle का आज 108 वां जन्मदिन है और इस खास मौके पर गूगल में गूगल डूडल के जरिए उनके जन्मदिन पर मनाया है और अगर आज के समय में जो भी इंसान कॉन्टैक्ट लेंस का इस्तेमाल कर रहा है वह सिर्फ Otto Wichterle की वजह से ही मुमकिन हो पाया है।

Conclusion on Otto Wichterle in Hindi

Otto Wichterle in Hindi इन्होंने अपने पूरे जीवन काल में वैज्ञानिक बन कर कांटेक्ट लेंस को बनाया जो कि आज के समय में काफी लोगों की मदद कर रहा है आज हमने इस आर्टिकल में Otto Wichterle के बारे में काफी सारी जानकारी हासिल की है मुझे पूरी उम्मीद है कि आपको यह आर्टिकल पसंद आया होगा पर यहां से थोड़ी मदद मिली होगी अगर जो भी इंसान को कांटेक्ट लेंस का इस्तेमाल कर रहा हूं सिर्फ इन की देन है तो हम सभी पूरे दिल से Otto Wichterle के 108 जन्मदिन मनाना चाहिए।

"Hey, I’m Mangesh Kumar Bhardwaj, A Full Time Blogger , YouTuber, Affiliate Marketer and Founder of BloggingQnA.com and YouTube Channel. A guy from the crowded streets of India who loves to eat, both food and digital marketing. In the world of pop and rap, I listen to Ragni."

Leave a Comment