नमस्कार दोस्तों! आज हम Dhara 144 Kya Hai इसके बाद बात करेंगे हमारे देश में ऐसे बहुत सारे कानून है किसका इस्तेमाल मुजरिमों को सजा देने के लिए किया जाता है और उन सारे कानून में एक कानून धारा 144 का भी है इसका नाम आपने कभी ना कभी जरूर सुनाओ।

धारा 144 आपने आमतौर पर परीक्षा के वक्त चुनाव के दौरान या फिर किसी भी कोट की ओर से किसी भी महत्वपूर्ण फैसले को ले जाने वाले दौरान अपने धारा को सुना होगा आपने यह भी देखा होगा कि जब भी चुनाव का दौर चलता है तो कुछ मतदान केंद्रों में संवेदनशील घोषित भी करती है।

Also Read:- Uppcl Bijli Bill Kaise Dekhe

और ऐसे में उन सारे मतदान केंद्रों के बाहर एक निश्चित प्रीति तक धारा 144 की मांग लगाई जाती है इस तरह से दंगे या फिर लड़ाई झगड़े के लिहाज से संवेदनशील किसी स्थान पर परीक्षा आयोजित कराई जाती है तो परीक्षा के अंदर के आसपास परीक्षा के दौरान 40 धारा लगाई जाती है और और भी जगह पर इस धरा का उपयोग होता है।

आपके मन में यह सवाल जरूर आता होगा कि आखिरकार यह धारा 144 क्या है? यह कानून कब अस्तित्व में आया इसे क्यों लगाया जाता है और इसे कौन लगा सकता है और अगर इस धारा के तहत कोई गिरफ्तार होता है तो क्या वह छूट सकता है तो दोस्तों इन सारे सवालों के जवाब में आपको इस पोस्ट में जरूर दूंगा।

Dhara 144 का मतलब क्या है?

धारा 144 सीआरपीसी के तहत आने वाली एक कानूनी धारा होती है जिसका पूरा नाम “दंड प्रक्रिया संहिता” है जिसे हम लोग Code of Criminal Procedure (CrPc) के नाम से भी जानते हैं यह दोनों एक ही तार होती है। इस धारा से जरा कानून को तकरीबन साल 1973 में पास किया गया था और उसी के ठीक 1 साल बाद 1974 में इस कानून को लागू किया गया।

Check this:- Idea का Balance चेक करने का Number

धारा 144 के इस कानून मैं अपराधी जो कि अपराध करता है और पीड़ित जोगी अपराध जाता है दोनों के संबंध में अलग-अलग व्यवस्था बताई गई है और इस क्रम में भी धारा 144 की व्यवस्था दी गई है। इस धारा का उपयोग आमतौर पर इसी लिए किया जाता है ताकि किसी भी क्षेत्र या फिर शहर में शांति व्यवस्था को बनाए रखने के लिए उपयोग किया जाता है।

धारा 144 कौन लगाता है?

धारा 144 क्या है इसके बारे में तो आपको पता चल गया अब हम भी जानते हैं कि इस कानून को कौन लगा सकता है जैसे कि हम जानते हैं कि किसी भी क्षेत्र में या फिर इलाके में दंगे, लूटपाट, हिंसा, मारपीट आदि की आशंका को देखते हुए इस तरह को लगाया जाता है और हर क्षेत्र के बकायदा जिला मजिस्ट्रेट या पेटीएम की ओर से अधिसूचना या नोटिफिकेशन जारी किया जाता है।

और इसके बाद फिर पुलिस यह सुनिश्चित करती है कि इस तरह का उल्लंघन कोई ना करें और अगर कोई भी व्यक्ति इस कानून का उल्लंघन करता है तो उसे धारा 144 के तहत प्रभावी धाराओं में गिरफ्तार किया जाता है।

धारा 144 कब लागू होता है?

धारा 144 लागू किया जाता है जब शहरों में या फिर क्षेत्रों में हिंसा भरनी शुरू हो जा यह धारा तभी लागू की जाती है जब इस धारा को लागू करने के लिए किसी भी क्षेत्र या जिला के मजिस्ट्रेट यही यानी जिलाधिकारी द्वारा एक नोटिफिकेशन जारी किया जाता है और तब यह धारा उसी इलाके में लगा दीया जाता है।

जिस भी चित्र में अशांति होती है उस स्थिति में इस तरह को लगाया जाता है या फिर किसी भी क्षेत्र में ज्यादा लोगों को इकट्ठा ना हो उसके लिए मिलाया जाता है इस कानून में 4 से ज्यादा लोग एक जगह इकट्ठा नहीं हो सकते हैं और यह धारा जाने के बाद उसी स्थान पर हथियारों को लाने ले जाने की इजाजत नहीं होती है।

Ayushman Card Kaise Banta Hai 

जैसे की हम सभी जानते हैं हमारे देश में पिछले साल करुणा महामारी के वजह से पूरे देश में लॉकडाउन का माहौल लगा था उस समय कहीं कहीं पर इस धारा को भी लागू किया गया था जिसमें लोग 4 लोग से ज्यादा एक जगह इकट्ठा नहीं होते थे और जहां भी लोग एक एक जगह 4 लोगों से ज्यादा इकट्ठा पाए जाते थे उन पर चार्ज लगाया जाता था।

धारा 144 लागू होने के बाद क्या होता है?

धारा 144 लगाने के बाद उस क्षेत्र में या फिर कुछ इलाके में 5 या फिर से ज्यादा लोग एक जगह खट्टा नहीं हो सकते हैं उन पर रोक लगा दिया जाता है और उस इलाके में किसी भी तरह का कोई भी बैठक नहीं होता है और ना ही किसी तरह की रैली या फिर जुलूस निकाला जा सकता है।

और दोस्तों की इतना ही नहीं इस धारा के लागू होने के बाद उस इलाके में हत्यार भी नहीं ले जाए सकता है और कोई भी उस इलाके में हथियार के साथ पकड़ा जाता है तो उस पर कानूनी कार्रवाई होती है और उसी के साथ-साथ उस एरिया में ट्रैफिक की आवाजाही पर भी रोक लगा दिया जाता है।

Kundali Kaise Banaye

आपने कभी ना कभी जम्मू-कश्मीर में ऐसे हादसा जो सुना होगा वहां पर ज्यादातर धारा 144 का प्रयोग होता ही रहता है वहां पर आतंकियों के छिपे होने की स्थिति में सेना के सर्च ऑपरेशन चलने के समय संबंधित सभी क्षेत्रों में 140 के धारा लागू कर दी जाती है जिसके माध्यम से इंटरनेट के सर्विस को भी बंद कर दिया जाता है और अगर इंटरनेट चलती भी है तो उस समय सिर्फ 2G सर्विस का उपयोग किया जाता है।

ऐसा तब क्या क्या था जबकि 5 अक्टूबर को जम्मू कश्मीर से अनुच्छेद 370 को खत्म करने के लिए फैसला किया गया और ऐसे बहुत ही खराब हालत होने की आशंका के होने के सावधानी भी बरतने के लिए किया गया था जम्मू डिवीजन भी इसके पूरे चपेट में था और करीब 1 महीने बाद वहां लोगों ने इंटरनेट की सुविधा सामान्य रूप से इस्तेमाल की थी।

धारा 144 के कुछ नियम

धारा 144 कि कुछ ऐसे नियम भी है जोकि लगने के बाद इस्तेमाल की जाती है इसके बारे में आपको जानकारी होना बहुत ज्यादा जरूरी है क्योंकि कभी भी अगर आपके चित्र में इस कानून को लागू किया जाता है तो आपके पास एकदम सही संस्कारी हो और वह काम आप बिल्कुल ना करें।

  • इस कानून का उल्लंघन करने वाले व्यक्ति को बहुत ही ज्यादा कड़ी सजा दी जाती है।
  • जो भी व्यक्ति धारा 144 का पालन नहीं करता है तो उसे पुलिस के द्वारा किसी भी समय पर गिरफ्तार कर लिया जाता है।
  • गिरफ्तार होने वाले व्यक्ति को गिरफ्तारी धारा 107 या फिर 151 के तहत गिरफ्तार की जाती है।
  • इस धारा को ना मानने वाले इंसान को 1 साल की कैद की सजा सुनाई जा सकती है।
  • धारा 144 में अगर किसी भी व्यक्ति को सजा होती है तो उस समय वह व्यक्ति अपना जमानत भी करा सकता है।

धारा 144 कितने समय के लिए लगाया जाता है

धारा 144 कानून के बारे में आपको अब तक बहुत कुछ पता चल गया है लेकिन आपके मन में यह भी सवाल जरूर आ रहा होगा कि अगर धारा 144 लगाई जाती है कितने समय तक लगाई जाती है तो दोस्तों मैं आपको बता दूं कि स्पीच क्षेत्र या फिर इलाके में धारा 144 को लगाया जाता है तो उस क्षेत्र में कम से कम 2 महीने के लिए इस धारा को लगाया जाता है।

Best 100+ Truth and Dare Question in Hindi

अगर उस क्षेत्र में दंगा बहुत ज्यादा फैल जाता है और हालत और बिगड़ने की आशंका होती है तो उस धारा को 6 महीने तक के लिए भी बढ़ाया जा सकता है हालांकि से 6 महीने से आगे नहीं कभी भी बढ़ाया गया है और अभी तक फिलहाल 2 महीने तक ही इसे रखा गया है। दिनों की कनाना धारा 44 प्रभावी होने के तुरंत बाद से ही पारंभ मान जाती है।

धारा 144 में जमानत होता है

बहुत सारे लोगों का यह भी सवाल आता है कि धारा 144 में क्या कोई भी व्यक्ति अपना जमानत करा सकता है तो इसका जवाब बहुत ही साधारण है जी हां आप इस धारा में अपने जमानत करा सकते हैं इसका मतलब है कि इस धारा को उल्लंघन करने वाले गिरफ्तारी अपनी जमानत करा सकते हैं।

इसके लिए उन्हें कोर्ट के अनुसार निर्धारित मुचकले भरने होते हैं या फिर उनकी आवश्यकता शर्त पूरी करनी होती है और तो और कई बार ऐसा भी होता है कि पुलिस कोई एम मसला देखते हुए शांति भंग की आशंका में पहले ही कुछ लोगों को उठाकर नजर बंद कर देती है।

Pi Network Kya Hai

अयोध्या में राम जन्म भूमि विवाद को लेकर दी किसी 9 नवंबर को आए फैसले से भी पहले एक ऐसा किया गया था जहां पर पूरा भारत बंद जैसे पुरानी बवाल से सोशल मीडिया पर पोस्ट अपलोड किया जा रहा था उसी वक्त पुलिस ने पहले ही नजरबंद कर लिया था इसके अलावा जिन पर भी गंभीरता रही थी उन्हें उठा भी लिया गया था।

धारा 144 में सजा कितनी होती है

धारा 144 में सुबह कितनी होती है यह भी एक बहुत ही अच्छा सवाल है इसका जवाब आपको मालूम होना चाहिए इस धारा का उल्लंघन करने वाले व्यक्ति को सजा दी जाती है इसमें मसल लंदन गए या बवाल जैसी गतिविधियों में शामिल होने वाले खिलाफ मामले दर्ज किए जाते हैं।

इस गतिविधियों के तहत आरोपी व्यक्ति को धारा 151 और 107 के तहत गिरफ्तार किया जाता है और मैं आपको बताना चाहता हूं कि इस दोष सिद्ध होने पर उसे अधिकतम 3 साल की सजा भी सुनाई जाती है और उस दौरान गिरफ्तार हुआ व्यक्ति अपने जमानत भी करा सकता है।

FAQ on Dhara 144 Kya Hai

Q1. धारा 144 क्या है?

धारा 144 एक ऐसा कानून है जिसमें जिस क्षेत्र या फिर हिंसा वाले स्थिति को रोकने के लिए सरकार के द्वारा शांति बनाए रखने के लिए इस धारा को इस्तेमाल किया जाता है। धारा 144 चित्र में इसलिए लगाया जाता है ताकि वहां पर दंगे बंद हो सके और शांति बन सके।

Q2. धारा 144 का क्या नियम है?

धारा 144 का नियम यही है कि इस कानून में अगर कोई भी व्यक्ति इस कानून का उल्लंघन करता है तो उसे कड़ी से कड़ी सजा दी जाती है और कोर्ट के माध्यम से उस व्यक्ति को 3 साल की सजा भी सुनाई जा सकती है।

Q3. धारा 144 का उल्लंघन करने पर क्या होता है?

धारा 144 का उल्लंघन करने पर उस व्यक्ति को 3 साल तक की सजा भी सुनाई जा सकती है।

Q4. धारा 144 में जमानत कैसे मिलती है?

धारा 144 में जमानत लेने के लिए व्यक्ति को कोर्ट के अनुसार निर्धारित मुचकले भरने होते हैं या फिर उनकी अव्यक्ता शर्त पूरी करनी होती है तब जाकर उस शक्ति को सामान मिलता है।

Conclusion

हमारे देश में ऐसे बहुत सारे कानून है ऐसी बहुत सारी धाराएं हैं जिसके बारे में बहुत ही कम लोगों को जानकारी होती है लेकिन अगर आप एक भारतीय हैं तो आपको इन सभी चीजों के बारे में जानकारी होनी चाहिए क्योंकि यह ऐसे कानून है जो आमतौर पर कभी ना कभी लाया जाते हैं।

Urdu Bhasha Ki Lipi Kya Hai 

और अगर आपको इसकी नियम यह धारा क्या है और यह किस वजह से लगाया जाता है इसके बारे में जानकारी नहीं होगी तो आने वाले समय में आपको परेशानी हो सकती है इसलिए Dhara 144 Kya Hai इसके बारे में मैंने इस आर्टिकल में जितना हो सके उतना जानकारी देने की कोशिश की है मुझे आशा है कि आप को मेरी दी हुई जानकारी पसंद आई होगी।