Vinesh Phogat Biography in Hindi : विनेश फोगाट एक बेहतरीन भारतीय महिला पहलवान है जो की कुश्ती करती है और अपने मेहनत से महिलाओं के लिए एक मिसाल कायम कर दिया है।

हमारा भारत देश क्योंकि इतना प्यारा और इतना अच्छा है लेकिन फिर भी ऐसे बहुत से अभी जगह है जहां पर लड़कियों के लिए बहुत सारी पाबंदी रखी गई है इसमें से एक कुश्ती खेलना भी है। भारत मैं महिलाओं के लिए कुश्ती खेलना और उसमें अपना एक पहचान बनाना बहुत ही मुश्किल है वही भारत की एक बेटी विनेश फोगाट ने महिलाओं के लिए एक मिसाल कायम कर दिया और नामुमकिन को मुमकिन भी कर दिखाया है।

Also Read:- Kamalpreet Kaur Biography in Hindi (Discus Throw)

मैं आपको बता दूं विनेश फोगाट का जन्म 25 अगस्त 1994 में, हरियाणा में हुआ था। विनेश फोगाट की माता का नाम प्रेमलता है और उनके पिता का नाम राजपाल सिंह फोगाट है| जैसा कि आप जानते हैं भारत में महिलाओं के लिए कुश्ती को अधिक बढ़ावा फोगाट परिवार से मिला है।

फोगाट परिवार से सारी बेटियां अपने भारत देश के लिए कुश्ती में सिर्फ भाग ही नहीं लिया बल्कि ऐसे बहुत सारे पदक भी हासिल किया है और अपने देश का नाम रोशन किया है और यह दिखाया है यह लड़कियां भी किसी से कम नहीं होती।

Vinesh Phogat Biography in Hindi: Birth Date, Age, Height, Education, Husband

vinesh phogat biography in hindi

Quick Information About Vinesh Phogat

नाम (Name)विनेश फोगाट
जन्म (Birth Date)25 अगस्त 1994
आयु (Age)26 साल
पिता का नाम (Father Name)राजपाल सिंह फोगाट
माता का नाम (Mother Name)प्रेमलता सिंह फोगाट
पेशा (Profession)कुश्ती पहलवान
पति का नाम (Husband Name)सोमबीर राठी
शिक्षा (Education)के सी एम सीनियर सेकेंडरी स्कूल झोजु कलां, हरियाणा
धर्म (Religion)हिंदू
बहनों का नाम (Sisters Name)प्रियंका फोगाट, बबिता कुमारी फोगाट, रीतू फोगाट, गीता फोगाट
लंबाई (Height)5 फीट 3 इंच
वजन (Weight)55 किलो
आंखों का रंग (Eye Color)काला
बालों का रंग (Hair Color)काला
अंतरराष्ट्रीय डेब्यू (International Debut)एशियाई कुश्ती चैंपियनशिप 2013
कोच (Coach)महावीर सिंह फोगाट
जन्मस्थान (Birth Place)बालाली, हरियाणा, भारत
कैटेगरी (Category)48 किलोग्राम कुश्ती

विनेश फोगाट जब 9 वर्ष की थी तब उनके पिता की मृत्यु हो चुकी थी और इस कठिन समय में उनके चाचा जी जिनका नाम महावीर सिंह फोगाट है वह विनेश फोगाट को अपने घर ले आए और उसकी परवरिश बहुत ही अच्छे तरीके से किया जैसा कि हमें पता है रेसलर गीता और बबीता फोगाट ने हमारे देश के लिए कितना नाम कमाया।

Related:- Savita Punia Biography in Hindi

और यह सब उनके पिताजी की वजह से हुआ है उनके पिताजी ने उन सबको बचपन से ही ट्रेनिंग देनी शुरू कर दी थी और इसी वजह से विनेश को भी रेसलिंग के गुण सिखाने शुरू कर दिए थे| जब बचपन में महावीर सिंह उन सबको ट्रेनिंग करवाते थे तब उस दौरान विनेश फोगाट को लड़कों के साथ लड़ना पड़ता था।

क्योंकि उस समय लड़कियों को कुश्ती में ज्यादा दिलचस्पी नहीं होती थी और यही वजह कि विनेश फोगाट ने कभी हार नहीं माना और वह आगे बढ़ती रहे और साथ ही साथ कुश्ती में अपना नाम करती रही।

विनेश फोगाट ने अपनी प्शिक्षा को के.सी.एम सीनियर सेकेंडरी स्कूल (KCM Senior Secondary School) झोजु कलां, हरियाणा से पूरी की और विनेश फोगाट को बचपन से ही किताबें पढ़ने का बहुत शौक था और वह किताबें भी बहुत प्यार से पढ़ती थी| विनेश फोगाट अपनी कॉलेज की पढ़ाई एमडीयू रोहतक (MDU Rohtak) हरियाणा से, ग्रहण की थी।

विनेश फोगाट हरियाणा के एक छोटे से जिले में भिवानी से आती है और एशियाई खेलों में विनेश फोगाट स्वर्ण पदक भी जीती हैं| विनेश फोगाट स्वर्ण पदक जीतने वाली भारत की पहली महिला पहलवान बनी।

Check this also:- Fouaad Mirza Biography in Hindi

इसी के साथ साथ वर्ल्ड रेसलिंग चैंपियनशिप में कांस्य पदक को भी जीता और इसके बाद विनेश फोगाट टोक्यो ओलंपिक के लिए क्वालीफाई करने वाली हमारे भारत की पहली महिला पहलवान बनी।

विनेश फोगाट का प्रारंभिक जीवन हिंदी में (Early Life in Hindi)

अब हम जानते हैं विनेश फोगाट का प्रारंभिक जीवन के बारे में विनेश फोगाट का बचपन कैसा था उन्होंने किस तरह की मुश्किलों का सामना करें यह सब जैसा कि मैंने आपको बताया कि विनेश फोगाट का जन्म हरियाणा के भिवानी जिले के बंगाली गांव में हुआ था।

विनेश फोगाट अपनी शिक्षा के सी एम सीनियर सेकेंडरी स्कूल झोजु कला से पूरी की थी और इसी के साथ साथ रोहतक में उन्होंने एमडीयू यूनिवर्सिटी से अपनी कॉलेज की पढ़ाई पूरी की 2016 में एक मूवी आई थी जिसका नाम “दंगल” था।

उस फिल्में दो लड़कियों के बारे में बताया था जिसका नाम गीता और बबीता था विनेश फोगाट इन दोनों की अपनी चचेरी बहन है।

विनेश फोगाट पहलवानों की परिवार मैं हुआ था और उन्होंने बचपन से अपने अंकल महावीर सिंह फोगाट से ट्रेनिंग लेना शुरू कर दी थी| जब वह महज 9 साल की थी तब उनके पिताजी की मृत्यु हो चुकी थी तब से महावीर सिंह फोगाट में उनकी परवरिश अपने ऊपर ले ली थी।

Related:- Dutee Chand Biography in Hindi

विनेश फोगाट के गांव में जब वह अपनी कुश्ती की ट्रेनिंग करती थी तब उन्हें लड़कों के साथ कुश्ती लड़ना पड़ता था क्योंकि उस समय लड़कियां कुश्ती में ज्यादा दिलचस्पी नहीं रखती थी।

इसी वजह से अंकल महावीर सिंह फोगाट और विनेश फोगाट की मां प्रेमलता को लड़कों के साथ कुश्ती लड़ना और शॉर्ट पहनने को लेकर गांव में और सारे समाज के प्रतिरोध को झेलना पड़ता था और बहुत लोग महावीर सिंह फोगाट के विरोध थे कि आप एक लड़की का कुश्ती लड़के के साथ कैसे करा सकते हो।

यह सारी बाधाएं आई मुसीबतें आई इसके बावजूद भी विनेश फोगाट आगे बढ़ती गई अपनी मेहनत करती रही और और उनकी मेहनत का फल उन्हें 2014 में, दिखा जब वह राष्ट्रमंडल खेलों में गोल्ड मेडल जीतकर अंतरराष्ट्रीय स्तर पर अपने आगमन की घोषणा की थी।

विनेश फोगाट का जीविका हिंदी में (Career in Hindi)

अब हम भी जानते हैं कि विनेश फोगाट कर करियर की शुरुआत कैसे हुई विनेश फोगाट की कुश्ती का करियर शुरुआत साल 2009 में हुई थी और मैंने सौगात इसी साल में इंदौर के अर्जुन अवॉर्डी कृपाशंकर बिश्नोई, की देखरेख के अंदर ट्रेनिंग लेने की शुरुआत की।

विनेश फोगाट 2013 के साल में नई दिल्ली में एशियाई कुश्ती चैंपियनशिप के अंदर 52 किलोग्राम वजन कैटेगरी में कांस्य पदक को जीता था और इसी के बाद दक्षिण अफ्रीका के जोहान संवर्ग में राष्ट्रमंडल कुश्ती चैंपियनशिप में 51 किलो वजन कैटेगरी में रजत पदक को भी हासिल किया था।

Check This also:- Captain Vikram Batra Biography in Hindi

2014 साल में, राष्ट्रमंडल खेलों के अंदर 48 किलो वजन कैटेगरी में विनेश फोगाट पहलवान ने ग्लासगो मैं अपना पहला अंतरराष्ट्रीय स्वर्ण पदक हासिल किया था और उसी साल के अंत में इसी डिवीजन के अंदर दक्षिण कोरिया और इंचिओन में एशियाई खेलों में कांस्य पदक को भी हासिल किया था।

2015 मैं एशियाई चैंपियनशिप में विनेश फोगाट ने रजत पदक गीता और अपने पिछले संस्करण के अपने प्रदर्शन को और भी बेहतर किया राष्ट्रमंडल खेलों में विनेश फोगाट अपनी सफलता के साथ साथ अपने उम्मीदों को इतना बढ़ा दिया कि रियो ओलंपिक में पदक जीतने की उम्मीदवारों मैं उनका नाम गिना जाने लगा।

इस वजह से विनेश फोगाट बहुत ही खुश थी एक भारतीय महिला के लिए यह बहुत ही गर्व की बात थी लेकिन जब विनेश फोगाट क्वार्टर फाइनल मुकाबले में पहुंची थी तब उस दौरान उन्हें चोट लग गई थी और इस वजह से उन्हें स्ट्रेचर पर बाहर ले जाना पड़ा।

चोट लगने की वजह से खाओ बहुत ज्यादा था इसलिए उनकी सर्जरी हुई और करीबन 5 महीने बाद ही जब फोगाट ठीक हो गई तो वह तुरंत मैट पर वापस आ गई।

2017 वर्ष में, पीली फोगाट नई दिल्ली के अंदर हो रहे एशियाई कुश्ती चैंपियनशिप में 55 किलो वजन कैटेगरी में रजत पदक जीता और इसी के साथ साथ बीसकेक मैं 2018 वर्ष के संस्करण में 50 किलो वजन कैटेगरी में अपने प्रदर्शन को दोहराया था।

दोस्तों मैं एक बात बताना चाहता हूं 2018 के वर्ष में गोल्ड कोस्ट कॉमनवेल्थ गेम में विनेश फोगाट ने 50 किलो वजन कैटेगरी में स्वान पदक जीता और इसी के साथ साथ जकार्ता एशियाई खेलों में स्वर्ण पदक जीतने वाली पहली भारतीय महिला पहलवान बनी।

इससे साफ जाहिर होता है कि हमारे देश की लड़कियां से कम नहीं है चाहे तो बहुत आगे बढ़ सकती है लेकिन आज के समाज आज के लोग लड़कियों को आगे बढ़ने से रोकते हैं हमें उन्हें बढ़ावा देना चाहिए उनके काम को लेकर उन्हें अप्रिशिएट करना चाहिए।

साल 2019 में विनेश फोगाट एशियाई कुश्ती चैंपियनशिप के अंदर 53 किलो वजन कैटेगरी में कांस्य पदक के साथ अपनी पूरी मजबूती फॉर्म को जारी रखा उस पर ध्यान दिया इसके बाद कजाकिस्तान में आयोजित किए जाने विश्व कुश्ती चैंपियनशिप में विनेश फोगाट कांस्य पदक को जीता और यह उनकी बहुत बड़ी उपलब्धि साबित हुई क्योंकि इस मुकाबले मैं उनका सामना ओलंपिक और वर्ल्ड चैंपियनशिप के पदक विजेताओं से था इसलिए इस पदक को जितना विनेश फोगाट के लिए बहुत ही गर्व की बात थी।

विनेश फोगाट के लिए यह जीत इतना महत्वपूर्ण इसलिए भी था क्योंकि 2021 टोक्यो ओलंपिक के लिए अपना टिकट हासिल कर लिया था और रोम में 2020 साल के अंदर एक रैंकिंग स्पर्धा में विनेश फोगाट ने स्वर्ण पदक को भी हासिल किया था।

विनेश फोगाट की शादी (Vinesh Phogat Marriage)

विनेश फोगाट की शादी सोमबीर राठी के साथ हुई मैं आपको बता दूं सोमबीर राठी खरखोदा के रहने वाले हैं और वह एक जाने-माने पुरुष पहलवान भी है जो कि राष्ट्रीय चैंपियनशिप के दौरान कांस्य पदक को अपने नाम किया था और इसी के साथ-साथ अपने देश का नाम भी रोशन किया था।

क्या आप जानते हैं?

विनेश फोगाट और सोमबीर राठी की शादी बहुत ही अजीब तरीके से हुई थी नॉर्मल शादियों में दूल्हा और दुल्हन सात फेरे लेते हैं और कसम खाते हैं लेकिन इन दोनों की बात अलग थी इन दोनों ने 7 की जगह 8 फेरे लिए और एक नया रिकॉर्ड बनाया| अपने आठवें फेरों में उन दोनों ने बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ का वचन लिया और इस वजन को लेकर अपने देश का सिर गर्व से ऊंचा कर दिया और हम सभी को उनसे सीखना चाहिए उन्होंने यह करके देश को और हम सभी को एक नया पाठ सिखाया।

Interesting Facts About Vinesh Phoghat in Hindi

अब हम बात करते हैं विनेश फोगाट के बारे में कुछ ऐसे नए रोचक तथ्य जो की आपको जरूर जानने चाहिए|

  • विनेश फोगाट अपने बचपन से ही एक टेनिस खिलाड़ी बनने का इच्छा अपने अंदर रखी थी और वह चाहती थी कि वह बड़े होकर एक टेनिस खिलाड़ी बने लेकिन बचपन में उनके पिताजी के जाने के बाद जब उनकी जिम्मेदारी महावीर सिंह फोगाट के ऊपर आए तब उन्होंने अपनी करियर पहलवानी की तरफ बढ़ा लिया.
  • मैं आपको बता दूं विनेश फोगाट दिनेश मशहूर पहलवान महावीर सिंह फोगाट जोकि एक वरिष्ठ ओलंपिक कोच तथा द्रोणाचार्य पुरस्कार से सम्मानित किए गए जा चुके हैं विनेश फोगाट उनकी भतीजी है.
  • ज डब्लू एस (JWS) से संबंधित एक प्रोग्राम है जिसका नाम स्पोर्ट्स एक्सीलेंस प्रोग्राम है वह विनेश फोगाट को पूरी तरह से सपोर्ट करते हैं.
  • विनेश फोगाट की बचपन की बात करें तो वह कुश्ती से ज्यादा प्यार नहीं करती थी वे एक टेनिस खिलाड़ी बनना चाहती एक लेकिन जब महावीर सिंह फोगाट अपनी बेटी को कुश्ती सिखाते थे और जब विनेश अपने बहनों को कुश्ती करते दिखती थी तो उसने भी कुश्ती करना शुरू कर दिया था और आज आप देख सकते हैं विनेश फोगाट ने हमारे देश का नाम रोशन भी किया है.

FAQ on Vinesh Phogat Biography

Q1. विनेश फोगाट का संबंध किस जिले से है?

विनेश फोगाट का संबंध भिवानी जिले से है|

Q2. विनेश फोगाट के पति का नाम क्या है?

विनेश फोगाट के पति का नाम सोमबीर राठी है|

Q3. क्या विनेश फोगाट धूम्रपान करती है?

विनेश फोगाट धूम्रपान नहीं करती है|