Sher Aur Khargosh Ki Kahani | खरगोश और शेर की लड़ाई की कहानी

(Sher Aur Khargosh Ki Kahani)! अपने बचपन में कभी ना कभी खरगोश और शेर की कहानी तो सुनी है उसमें हमने बचपन में ऐसी बहुत सारी कहानियां सुने होते हैं लेकिन आगे चलकर हम उस खाने को भूल जाते हैं और अब जाकर गूगल पर उस कहानी को ढूंढते हैं।

अगर आप भी गूगल पर इसे ढूंढते यहां आ चुके हैं तो आप आज इस कहानी को पूरा अंत तक जरूर पढ़ें क्योंकि आज किस आर्टिकल में मैं आपको खरगोश और शेर की कहानी के बारे में पूरी बातें बताऊंगा और इस कहानी से हमें क्या सीखने को मिलता है यह भी आज मैं आपको इस आर्टिकल में बताऊंगा।

तो इस कहानी को शुरू से लेकर अंत तक जाने के लिए आर्टिकल को पूरा पढ़ें अगर आप आधा पड़ेंगे तो आपके पास आ भी जानकारी चाहिए और आप इस कहानी से कुछ भी नहीं सीख पाएंगे इसलिए इस कहानी को पूरा पढ़ें क्योंकि हमारे जीवन में कौन सी कहानी हमारे जीवन को नया मोड़ दे दे हमें नहीं पता इसलिए इस कहानी को पूरा पढ़ें।

तो बिना समय गवाएं हुए आइए हम जानते हैं कि शेर और खरगोश की लड़ाई की वह कौन सी कहानी है जिसके बारे में सभी लोग अलग-अलग सूचना हमें देते हैं और इस कहानी से हम आज क्या नया सीख सकते हैं जिसे हम अपने जीवन में उतार कर अपने जीवन को और भी आसान और समझदार बना सकते है।

Also read:- Bhagwat Geeta in hindi PDF

खरगोश और शेर की कहानी | Sher Aur Khargosh Ki Kahani

दोस्तों यह कहानी बहुत पुरानी है तो बहुत पहले समय की बात है कि एक जंगल हुआ करता था और उसमें एक शेर रहा करता था वह सिर बहुत ही ज्यादा शक्तिशाली था और वह सभी जानवरों पर अपना मौसम आता था और उनका शिकार करके अपना पेट भरता था।

कभी-कभी उस शेर को इतनी भूख लगा दी थी कि वह एक दो नहीं बल्कि पूरी जंगल के सभी जानवरों को मार कर अपना भोजन पूरा करता था अपना पेट भरता था और इसी बात से जंगल के सभी जानवर बहुत ज्यादा परेशान थे और काफी सारे जानवरों तो दरें भी थे कि कल कहीं उनका नाम शिकार हो जाए।

और इस बात का हल निकालने के लिए सभी जानवरों ने एक फैसला लिया कि वह सभी जानवर शेर के पास जाकर इस मामले की जांच करेंगे इस पर बात करेंगे और हो सके तो इस चीज में समझौता करने की पूरी कोशिश करेंगे। और जैसे ही यह फैसला हो जाता है तो सभी जानवरों ने बहुत ही हिम्मत करके शेर के पास जाते हैं।

और सर के पास अपनी बात को रखते हैं शेर अपनी गुफा में बहुत ही मस्त रखे से आराम कर रहा होता है उन सभी के आने की वजह से सिर की नींद खुल जाती है जिसके साथ वह बहुत गुस्सा होता है और उसी वक्त शेर उन सभी जानवरों से एक बात पूछता है कि तुम सभी एक साथ या क्या कर रहे हो मैंने कोई दावत रखी है क्या तुम सब के लिए।

इस बात को सुनकर सभी जानवरों का एक सरदार बोला कि नहीं महाराज हम सभी यहां पर आपके लिए भोजन बन के नहीं आए हैं यहां पर हम सभी आपसे एक विनती करने का है दरअसल बात यह है कि आप जब भी शिकार हो जाते हो तो आप एक दो नहीं बल्कि एक ही साथ कई सारे जानवरों को मारते हो और उनका शिकार करते हो जिनमें से आप कईयों को खाते भी नहीं हो।

आपके ऐसे काम करने के कारण हमारे जानवरों की संख्या 3% कम होती जा रही है और हमारी 50 छोटी होती जा रही है अगर ऐसा ही चलता रहा तो 1 दिन हमारे राज्य में एक भी जानवर नहीं बचेगा और जब प्रजा ही नहीं रहेगी तो राजा किस काम का। इसलिए हम सभी आप से विनती करते हैं आपको हम लोग अपना राजा मानते हैं तो हमने आपके लिए भोजन का इंतजाम करने के लिए कुछ योजना बनाया है।

Check this Also:- Barbarik Kon Tha – पूरी जानकारी हिंदी में

हम सभी का सुझाव यही है कि आप शिकार पर ना जाएं बल्कि हम खुद रोज एक एक करके जानवर आपकी खूब गुफा में भेजते रहेंगे इस तरह से आपका रोज का भोजन भी हो जाएगा और आपको कहीं जाकर शिकार करने की मेहनत भी नहीं करनी पड़ेगी और हमारे प्रजा बची भी रहेगी।

इस बात को सुनकर शेर ने मंजूरी दिखाएं और उसी वक्त बोला कि ठीक है मुझे तुम्हारा यह सुझाव अच्छा लगा लेकिन एक बात को तुम लोग ध्यान रखना कि अगर किसी दिन मेरा बोले नहीं आया या फिर मेरा वजन कम आया तो मैं जितना चाहो उतना जानवरों को मारकर खा लूंगा तो सभी जानवरों ने इस बात पर सहमति जताई और सभी वापस घर की ओर चल पड़े।

और उसी दिन से हर रोज शेर की गुफा में एक जानवर रोज जाता था और शेर उसे मार कर अपना भोजन करता था ऐसा ही खूबसूरत तो चलता गया लेकिन एक दिन खरगोश की जाने की बारी आई। खडूस बहुत ही छोटा जानवर था लेकिन बहुत ज्यादा तो पूर्वी था उसने सोचा कि हर रोज शेर के हाथों एक जानवर मारा जाता है यह तो बहुत गलत बात है इस परेशानी का हल मुझे निकालना होगा तभी उसके दिमाग में एक आईडिया आया।

वो आराम से घूमते फिरते शेर की गुफा में जाता है और वह पहुंच करूं क्या देखता है कि शेर बहुत गुस्से में आग बबूला हो रखा होता है सैनिक ने जैसे ही खरगोश को देखा उसका गुस्सा और भी ज्यादा बढ़ जाता है और वह धार मार कर कहता है कि तुम जरा सा खरगोश मेरा क्या पेट भर होगे और ऊपर से इतनी देर कहां लगा दी पता है मैं कब से तुम्हारा इंतजार कर रहा हूं कहां मर गए थे और तुम मेरा पेट कैसे करोगे।

Also Read:- Thakur ko Kabu me Kaise Kare | ठाकुर को काबू में कैसे करें

शेर को इस हालत में देखकर खरगोश बोला कि महाराज मैं तो आपकी सेवा में अकेला आने वाला ही नहीं था बल्कि मेरे साथ तो 5 साथी और भी था लेकिन महाराज रास्ते में हमें एक और शेर मिल गया जो कि हमें खाने की जिद में बैठ गया वह मेरे सारे साथियों को मारकर खा गया मैं किसी तरह अपनी जान बचाकर आपके पास आया हूं यह सुनकर शेर और भी ज्यादा गुस्सा में आ गया।

और उसी में खरगोश शेर शेर ने कहा एक और शेर कौन है वह दूसरा से जो कि मेरे जंगल में मेरे ही पीठ पीछे मेरे शिकार को खा रहा है तो उसे बहुत खरगोश कहता है हमारा आज वह बहुत ही बड़ा शेर और जब मैंने उससे कहा कि तुम हमारे महाराज का भोजन खत्म कर रहे हो तो उसने बोला कि आज से मैं तुम्हारा महाराज हूं और इस जंगल का इकलौता राजा हूं मेरे अलावा इस जंगल में और कोई शेर नहीं रह सकता।

मैं सबको मार डालूंगा और मैं जंगल का राजा बन जाऊंगा उसके बाद रोज मेरे लिए भोजन आया करेगा और तुम जाकर अपने महाराज से बोल दो कि आज से इस जंगल का राजा मैं हूं। तो इस बात को सुनकर शेयर कहता है कि अच्छा? ऐसी बात है? तो मैं भी जरा देखूं कि वह कौन सा शहर है और वह कितना ताकतवर है जो कि मेरे ही जंगल में आकर मुझसे ही लड़ना चाहता है।

शेर खरगोश से बोला कि मुझे उसके पास ले कर चलो और उसी बहुत खरगोश ने शेर को अपने साथ ले गया खरगोश उस जंगल के बीच मौजूद एक पड़े से कुएं के पास ले गया और वहां से बोला महाराज वह दूसरा शेर इस गुफा के अंदर है आपको आता देख शायद वह इस गुफा में चला गया होगा।

Also read:- Telugu Months Names in Telugu

दूसरे से शेर को देखने के लिए जैसे ही शेर ने कुएं में झांका तो वहां पर उसकी खुद की परछाई दिखती है तो उसे ऐसा लगता है कि अंदर वाकई एक और शेर है जो कि मुझसे लड़ना चाहता है इसके बाद जब उस शेर ने दूसरे शेर को ललकार ने के लिए धार मारता है तो उसकी ही दहाड़ गूंज कर उसके खुद के पास आती है तो उसे लगता है कि अंदर एक और शेर है जो मुझसे ज्यादा ताकतवर है।

बस इतने में ही शेर गुस्सा से आग बबूला हो जाता है और वह कुएं में छलांग लगा देता है दूसरे शेर को मारने के लिए लेकिन मोहब्बत फिल्म दीवार से टकरा जाता है और पानी में गिर कर मर जाता है जब यह खबर जंगल के सभी जानवरों को पता लगती है तो सभी खुश होते हैं खरगोश की वाहवाही करते हैं और उसकी जय जयकार भी करने लग जाते हैं।

कहानी से सीख क्या मिलती है?

दोस्तो इस कहानी से हमें सीखने को क्या मिलता है हमें इस कहानी से यह सीखने को मिलती है कि चाहे परिस्थिति कैसी भी क्यों ना हो मुश्किल से मुश्किल परिस्थितियों में भी अपने आपको हमेशा शांत रखना चाहिए अपने दिमाग को हमेशा शांत रखना चाहिए और उसे इतना चतुर बनाना चाहिए कि वह हर परिस्थिति में खुद को डाल दे और हर परेशानियों का सामना आराम से करें और उसका हल आसानी से निकाल पाए।

"Hey, I’m Mangesh Kumar Bhardwaj, A Full Time Blogger , YouTuber, Affiliate Marketer and Founder of BloggingQnA.com and YouTube Channel. A guy from the crowded streets of India who loves to eat, both food and digital marketing. In the world of pop and rap, I listen to Ragni."

Leave a Comment