Patra Kya hai? patra kitne prakar ke hote hain – पूरी जानकारी हिंदी में

patra kitne prakar ke hote hain – हेलो दोस्तों! आज मैं आपको इस आर्टिकल में पत्र कितने प्रकार के होते हैं इसके बारे में जानकारी देने वाला हूं। टेक्नोलॉजी भरी दुनिया में पात्र की बात ही कोई नहीं करता है सभी लोग आजकल एक दूसरे SMS और ईमेल के द्वारा अपना संदेश भेज देते हैं लेकिन पहले के जमाने में यह सारी चीजें नहीं हुआ करती थी।

लेकिन पहले के समय पात्र का पौधा का इस्तेमाल किया जाता था जब भी लोगों को एक दूसरे को संदेश भेजना होता था सभी लोग पात्र का इस्तेमाल कर देते हैं और अपने संदेश को एक दूसरे के साथ Share करते थे भले ही टेक्नोलॉजी कितनी भी चुनाव पड़ गई हो लेकिन आज भी हमारे देश में कुछ ऐसी जगह है जहां पर पत्र का इस्तेमाल होता है।

और बहुत सारे लोग इसके बारे में आज की जानकारी जानना चाहते हैं तो मैंने सोचा क्यों ना इस पर एक आर्टिकल लिखा जाए आज मैं आपको इस आर्टिकल में बताऊंगा कि पत्र क्या होता है और इसके कितने प्रकार होते हैं अगर आपको एक पत्र लिखना है तो आप किस तरीके से लिख सकते हैं वह भी मैं आपको इस आर्टिकल में बड़े आसान भाषा में समझाने की पूरी कोशिश करूंगा।

आपको बस आर्टिकल को पूरा पढ़ना है ताकि आप पत्र कितने प्रकार के होते हैं इसके बारे में अच्छे से जान जाए। अगर आपके पास स्मार्टफोन नहीं है अगर आपके पास ऐसा कोई भी साधन नहीं है जिससे आप संदेश फेसबुक को तो आप आज भी पत्र का इस्तेमाल कर सकते हो और अपने संदेश को पत्र के द्वारा भेज सकते हो आइए इसके बारे में और जानकारी जानते हैं।

पत्र क्या होता है?

पत्र कितने प्रकार के होते हैं यह जानने से पहले सबसे पहले मैं आपको यह बताता हूं कि पत्र होता क्या जितने भी पुराने जमाने के लोग हैं उन सभी को पता है कि पत्र क्या होता है लेकिन जो आज के जमाने के लोग हैं बच्चे हैं उन्हें नहीं पता होगा कि पत्र क्या होता है तो मेरे को बता दूं पत्र को हम लोग अपने भाषा में चिट्ठी या फिर डाक के नाम से जानते हैं।

पहले के जमाने में लोग अपने संदेश को भेजने के लिए चिट्ठी का इस्तेमाल करते थे और उसे डाकघरों में जाकर जमा करते थे। इसे और भी आसान समझने के लिए आप इस तरीके से समझ सकते हैं कि जैसे हम लोग आज के जमाने में एक दूसरे को संदेश भेजने के लिए SMS या फिर Email का इस्तेमाल करते हैं बस उसी तरह चिट्ठी भी उस जमाने का SMS हुआ करता था।

लेकिन जब से समय आगे बढ़ता गया तबसे टेक्नोलॉजी भी काफी ज्यादा बढ़ती गई और टेक्नोलॉजी इतनी ज्यादा बढ़ गई कि आज के समय पत्र को कोई भी नहीं याद करता है क्योंकि इसकी अब जरूरत नहीं पड़ती है दुनिया के हर कोने में सभी के पास अपना एक स्मार्टफोन हो गया है और इस वजह से सभी लोग अपने संदेश को भेजने के लिए अब पत्र का इस्तेमाल नहीं करते हैं।

लेकिन जब हम अपने बड़े बुजुर्ग से पूछते हैं तो वह बताते हैं कि उस जमाने में अगर किसी की शादी है या फिर किसी की मृत्यु हो गई है तो उसके समाचार को भेजने के लिए पत्र का इस्तेमाल किया जाता था उस पत्र में अच्छे से लिखा जाता था ताकि वह जहां पहुंचना है वहां अच्छे से पहुंच जाए और इसके बाद उसे डाक के जरिए भेज दिया जाता था।

लेकिन क्या आपको पता है कि एक चिट्ठी को पहुंचने में कम से कम 20 से 25 दिनों का समय लगता था कि यहां दोस्तों आज के जमाने में 1 सेकंड भी नहीं लगता है अपना संदेश पहुंचाने के लिए लेकिन पहले के जमाने में लोगों को एक-एक महीना तक इंतजार करना पड़ता था संदेश के इंतजार का आप समझ सकते हैं कि आज का समान कितना ज्यादा अच्छा हो गया है।

पत्र कितने प्रकार के होते हैं? –  Patra Kitne Prakar Ke Hote Hain

पत्र क्या होता है इसके बारे में मैंने आपको बता दिया अब चलिए मैं आपको बताता हूं कि पत्र के कितने प्रकार होते हैं और इसके बाद में आपको यह भी पता होगा कि एक पत्र को लिखने के लिए किन-किन चीजों की जरूरत पड़ती है और आपके पास वह कौन-कौन से ज्ञान होने चाहिए जिससे कि आप एक अच्छे से पत्र को लिख पाए तो आइए पत्र के दो प्रकार होते हैं जो कि कुछ इस तरह है।

  1. औपचारिक पत्र
  2. अनौपचारिक पत्र

औपचारिक पत्र क्या होता है?

तो मैं आपको बताता हूं कि औपचारिक पत्र किसे कहते हैं दोस्तों औपचारिक पत्र एक ऐसा पत्र होता है जो कि आमतौर पर सरकारी कामकाज के लिए इस्तेमाल होता है कई बार सरकारी विभाग के लोग इन पत्रों का इस्तेमाल करते हैं और वो लोग आम आदमी को भेजते हैं और कभी-कभी तो आम आदमी अपना औपचारिक पत्र सरकारी विभाग को भेजता है।

इस पत्र को कई बार लोग कार्यालय पत्र के नाम से भी जानते हैं अगर आप मान लीजिए किसी सरकारी विभाग में काम करते हो और आपको छुट्टी चाहिए तो आप इसी पत्र का उपयोग करके छुट्टी ले सकते हो इस पत्र का इस्तेमाल आम आदमी भी कर सकता है और सरकारी विभाग के लोग भी कर सकता है और कभी-कभी सरकारी विभाग की तरफ से इस पत्र को गुजर जाता है जैसे कि अगर किसी बात पर सहमति बन गई हो और एक पत्र लेकर उसके औपचारिक घोषणा करनी होती है इसी को औपचारिक पत्र कहते हैं।

कभी-कभी हमारे देश में जब कोई नाम ही व्यक्ति की मृत्यु होती है तो उसके नाम पर सरकारी विभागों के तरफ से एक औपचारिक पत्र जारी की जाती है और इसकी खास बात यह होती है कि इस पत्र में इसकी जो भाषा होती है वह काफी अच्छी और नपी तुली होती है औपचारिक पत्र लिखते कैसे हैं इसके बारे में भी मैं आपको जानकारी दूंगा।

औपचारिक पत्र लिखते समय रखें इन बातों का ध्यान

तो चलिए मैं आपको अब बताता हूं कि जब आप औपचारिक पत्र लिखते हैं तो आपको किन किन बातों का ध्यान रखना बहुत जरूरी है क्योंकि अगर आपका चारिक पत्र एक बार खराब हो जाता है तो फिर आपको दूसरा नया बनाना पड़ता है जिसमें बहुत ज्यादा समय लगता है इसलिए इन बातों का हमेशा ध्यान रखें।

  • तो सबसे पहले जब आप औपचारिक पत्र लिख रहे होंगे तो आप केवल सिर्फ एक ही भाषा का प्रयोग करेंगे जैसे कि अगर आप औपचारिक पत्र में अंग्रेजी लिख रहे हैं तो आप सिर्फ अंग्रेजी लिखेंगे या फिर अगर आप हिंदी में लिख रहे हैं तो आप सिर्फ हिंदी लिखेंगे कभी भी दोनों भाषा को मिलाकर ना लिखें इससे आपका पत्र पूरा खराब हो जाएगा।
  • इसके बाद पत्र लिखने के दौरान आपको बोलचाल वाला भाषा इस्तेमाल करना है जैसे कि हम लोग एक दूसरे से जैसे बात करते हैं उसी भाषा में आप को पत्र लिखना है ताकि जो भी सरकारी विभाग में आपका पुत्र जाने वाला है उन्हें काफी अच्छे से समझ में आजाए।
  • जब भी आप औपचारिक पत्र को लिखोगे तो उस दौरान आपको घुमा फिरा कर बात करने से अच्छा कि जिस चीज के लिए आप वो पत्र लिख रहे हो वही सीधा और साफ अक्षरों में लिखे ताकि आपका पत्र जहां जाएगा वहां के लोगों के पास इतना समय नहीं होता है इसीलिए आप जितना कम लिखेंगे जितना अच्छा लिखेंगे आपके पत्र को उतना ही अच्छी तरीके से समझा जाएगा।
  • इसके बाद औपचारिक पत्र में बातों की जगह पर आप तथ्यों पर बल दे यह बहुत काम करता है और साथ ही साथ आप संभव हो तो उसकी भी प्रतियां दिनांक सहित बात करें।
  • आप हमेशा यह कोशिश करें कि जब भी औपचारिक पत्र एप्लीकेशन में हमेशा टाइप करके भेजें लेकिन यदि अगर ऐसा आप नहीं कर सकते हैं तो आप पेन से साफ साफ शब्दों में लिखे ताकि पढ़ने में लोगों को आसानी हो।
  • जब भी आप औपचारिक पत्र लिख रहे होंगे तो उसमें अपना और भेजने वाले की जगह का नाम पता एकदम सही से लिखें क्योंकि अगर पता सही से नहीं होगा तो आप जिस जगह अपना पत्र भेजना चाहते हैं वह पत्र नहीं पहुंच पाएगा जिसकी वजह से परेशानी आपको होगी।
  • अगर आप अपना पत्र खुद अपने हाथों से लेकर आए हैं तो अपना डायरी नंबर अवश्य ले लें क्योंकि इससे आगे आपके उसे संबंधित जानकारी मिलती रहेगी।

अनौपचारिक पत्र किसे कहते हैं?

तो चलिए मैं आपको अब बताता हूं कि और औपचारिक पत्र क्या होता है और इसे कब लिखा जाता है। जैसे कि मैंने आपको बताया आज के समय में भी ऐसे बहुत सारी जगह है जहां पर इंटरनेट और फोन की सुविधा नहीं है अनौपचारिक पत्र वहां पे जाता है जहां पर सैनिक या फिर नौजवान रहते हैं जहां पर फोन जैसी सुविधा नहीं दी जाती है उन सब जगह पर अनौपचारिक पत्र भेजा जाता है।

और ऐसे में उन सैनिकों के परिवार वाले उनका हाल जानने के लिए पत्र का सहारा लेते हैं लेकिन यदि हम कुछ जमाने पहले की बात करें तो इस तरीके के पत्र सूचना सबसे अच्छा माध्यम होता था एक दूसरे की हाल जानने का यह बहुत ही अच्छा और आसान साधन होता है लेकिन आज के समय में इन सभी झुकाव इस्तेमाल काफी कम हो गया है 

अनौपचारिक पत्र लिखते समय रखें इन बातों का ध्यान

  • जब भी आप अनौपचारिक पत्र लिख रहे हैं तो आपको उसी भाषा में लिखना है जिस भाषा में आपके दोस्त या फिर जहां आप पत्र पहुंचाने वाले हैं उन्हें समझ में आ जाए फिर चाहे वह हिंदी में हो चाहे हो अंग्रेजी में हो चाहे फिर किसी और भाषा में हो और उसी के साथ-साथ आपको अपने पत्र में शब्द बोली इस तरह से रखना है जैसे कि पांचवी पास व्यक्ति भी पढ़े आसानी से समझ जाए।
  • अनौपचारिक पत्र लिखते समय आपको अपने मन की बात और दिल की बात लिखना है और हमेशा पूरी बात लिखना है जिससे कि सामने वाला जब आपका पत्र पर है तो वह पूरी भावना से पत्थर पर है और उसे बहुत अच्छा लगे।
  • अगर आप अनौपचारिक पत्र में किसी भी वाह या फिर बच्चे का जन्मदिन का खुशखबरी देने वाले हैं तो आप विवाह का कार्ड या फिर बच्चे की कोई भी तस्वीर साथ में जरूर भेजें इनसे आपका पत्र सही जगह पर कम समय में पहुंच जाएगा।
  • अनौपचारिक पत्र में जब भी आप अपना पत्रक पूरी तरह से लिख लेंगे तो उसके अंत में हमेशा आपको जवाब में कुशल मंगल की कामना देनी है।
  • अगर आप अपने प्रेमी या प्रेमिका के लिए कोई पत्र लिख रहे हैं तो उस पत्र में आप अपनी तस्वीर किया फिर फूल भी साथ में भेज सकते हैं इससे की आपके प्रेम और भी ज्यादा मजबूत हो जाएंगे।
  • अनौपचारिक पत्र में एक बात बहुत अच्छी है कि अगर इस पत्र में लिखते हुए आपसे कुछ गलती भी हो जाए तो उससे कोई फर्क नहीं पड़ेगा आपका पत्र बिल्कुल सही जगह पर चला जाएगा क्योंकि जिसके लिए आप पत्र लिख रहे हैं वह इंसान बड़े ही प्यार से आपका पत्र पड़ेगा और समझ जाएगा।

पत्र कैसे लिखते हैं? – How to Write a Letter 

दोस्तों पत्र के कितने प्रकार होते हैं इसके बारे में मैंने तो आपको बता दिया लेकिन आपको नहीं जानना भी उतना ही जरूरी है कि पत्र लिखते कैसे क्योंकि अब अगर आपको पता होगा कि पत्र लिखते कैसे हैं तो आप को चाहे कोई भी पत्र मिल जाए आप बड़े ही आसानी से उस पत्र को लिख देंगे और जहां पहुंचाना है उसे आराम से पहुंचा देंगे तो आइए मैं आपको बताता हूं।

  • एक अच्छा सा पत्र लिखने के लिए सबसे पहले आपको पता और दिनांक यह दोनों चीज बहुत ही अच्छे से और साफ से लिखना है।
  • इसके बाद आपको कुछ शब्दों में पत्रिका भी सही लिखना है जिसका मतलब यह है कि आप वह पत्र किस विषय में लिखना चाहते हैं आपको वह लिखना है।
  • जब आपका पत्र समाप्त हो जाएगा तो आपको अंत में हस्ताक्षर अवश्य लिखना है।
  • जब भी आप पत्र लिख रहे हैं तो आपको हमेशा अपने सहेली की भाषा का प्रयोग करना है और जितना हो सके उतना समझने वाला शब्द का उपयोग करना है ताकि पढ़ने वाला आपका पत्र बड़े ही आसानी से समझ जाए।
  • आप दोनों पत्रों को इसी तरह से लिखेंगे आपने अगर इन सभी Steps को Follow किया तो आपका पत्र काफी अच्छे से लिखा जाएगा और अब आप जैसे भेजना चाहते हैं वहां बड़े आसानी से पहुंच भी जाएगा और पढ़ने वाले को अच्छे से समझ में आ जाएगा।

FAQs on Patra Kitne Prakar Ke Hote Hai

Q1. पत्र कितने प्रकार के होते हैं?

पत्र दो प्रकार के होते हैं एक औपचारिक पत्र दूसरा अनौपचारिक पत्र इन दोनों पत्रकार थे माल अपने संदेश को भेजने के लिए किया जाता है।

Q2. अनौपचारिक पत्र कितने प्रकार के होते है?

अनौपचारिक पत्र में कई तरह के प्रकार होते हैं जैसे की बधाई पत्र, शुभकामना पत्र, निमंत्रण पत्र, सांत्वना पत्र, कोई सलाह देने वाला पत्र इन सभी प्रकार के पत्र अनौपचारिक पत्र में आते हैं।

Q3. औपचारिक पत्र कितने प्रकार के होते हैं?

औपचारिक पत्र को आमतौर पर 3 वर्गों में बांटा जाता है औपचारिक पत्र स्कूल के प्रधानाचार्य से लेकर किसी भी सरकारी दफ्तरों में अधिकारी को भी लिखा जा सकता है यह पत्र कार्यालय पत्र होता है जो पत्र सरकारी विभाग के कामकाज में इस्तेमाल किया जाता है।

Q4. पत्र लिखते समय किन बातों का ध्यान रखें?

दोस्तों पत्र लिखते समय आपको कुछ बातों का ध्यान रखना बहुत जरूरी है वरना पत्र आपका खराब हो सकता है मैंने ऊपर आपको कुछ तरीके बताया जिसकी मदद से आप अपना पत्र बिल्कुल सही तरीके से लिख पाओगे।

Conclusion on Patra Kitne Prakar Ke Hote Hai

Patra Kitne Prakar Ke Hote Hai पत्र को लिखने का सही तरीका क्या है इसके बारे में मैंने आपको इस आर्टिकल में बताया और मैंने आपको इस आर्टिकल में यह भी बताया कि पत्र के कितने प्रकार होते हैं मुझे पूरी उम्मीद है कि आपको मैंने बताया गए इस जानकारी से थोड़ी मदद मिली होगी अगर आप इस सवाल का जवाब ढूंढ रहे थे तो मैंने आप लोगों के लिए इस सवाल का जवाब इस आर्टिकल में दे दिया है ऐसी और भी जानकारी जानने के लिए आप हमारे वेबसाइट पर आ सकते हैं।

"Hey, I’m Mangesh Kumar Bhardwaj, A Full Time Blogger , YouTuber, Affiliate Marketer and Founder of BloggingQnA.com and YouTube Channel. A guy from the crowded streets of India who loves to eat, both food and digital marketing. In the world of pop and rap, I listen to Ragni."

Leave a Comment