हेलो दोस्तों! इंसान के जीवन में धन बहुत ही मायने रखता है धन से ही घर में खुशियां आती है अगर आपके पास पर्याप्त करना हो तो आपका जीवन में खुशियों की हमेशा कमी रहेगी इसलिए धन हमारे जीवन में बहुत मायने रखता है।

कहीं ना कहीं दुनिया में सभी लोग धन कमाने के लिए ही दिन रात मेहनत करते हैं काम करते हैं ताकि वह ज्यादा से ज्यादा पैसा कमा सके और अपने घर में अपने परिवार में खुशियां बना सकें धन एक जरिया है अपने घरों में खुशियां लाने का और धन, संपत्ति, समृद्धि की देवी माता लक्ष्मी को माना गया है।

इसलिए अगर आप यह चाहते हैं कि आपके जीवन में कभी भी पैसे की कमी ना हो आपके घरों में खुशियों की कमी ना हो तब आपको माता लक्ष्मी जी की पूजा बहुत ही विधि विधान से करनी चाहिए।

Related:- Happy Diwali Essay in Hindi 

सच्चे मन से करनी चाहिए सिर्फ पैसे के लिए पूजा नहीं करनी चाहिए श्रद्धा से पूजा करनी चाहिए ताकि माता लक्ष्मी प्रसन्न हो और वह आप पर अपना आशीर्वाद बनाए रखें।

पर्याप्त धन से ही लोग अपनी जरूरतें पूरी करते हैं और अपने परिवार को खुश रख पाते हैं जीवन में धन ही सब कुछ नहीं है लेकिन अगर आपके जीवन में धन नहीं है तो आपके जीवन में खुशियां भी नहीं हो सकती है इसलिए धन का होना बहुत जरूरी है।

जिस घर में मां लक्ष्मी का आशीर्वाद नहीं होता है उस घर में दरिद्रता बढ़ जाती है इसलिए मां लक्ष्मी को प्रसन्न करना बहुत जरूरी है आज के इस लेख पर हम आपको यह बताएंगे कि महालक्ष्मी पूजन विधि के लिए सामग्री क्या होनी चाहिए और आपको कैसे पूजा करनी चाहिए।

देवी लक्ष्मी कौन है?

Lakshmi Pujan Vidhi in Hindi

लक्ष्मी माता धन की समृद्धि की देवी है पूरे लोग में धन की देवी माता लक्ष्मी को माना गया है और सब इनकी पूजा बहुत ही मन से करते हैं ताकि उन पर माता लक्ष्मी का आशीर्वाद हमेशा बना रहे।

सनातन धर्म के अनुसार यह बताया गया है कि माता लक्ष्मी भृगु और ख्वाती की पुत्री है और लक्ष्मी माता स्वर्ग में वास करती है। बहुत सारे वेदों में यह बताया गया है कि लक्ष्मी माता भगवान विष्णु को अपना पति परमेश्वर मान लिए थे जिस वजह से माता लक्ष्मी की शक्ति और प्रबल हुई मानी जाती है।

लक्ष्मी माता कमल के आसन में विराज करती है और उनका अभिषेक दो हाथी के द्वारा किया जाता है। अगर आप लक्ष्मी माता को परेशान करना चाहते हैं तो कमल का विशेष ध्यान रखें क्योंकि लक्ष्मी पूजन विधि में कमल का बहुत ही बड़ा महत्व माना गया है।

Related:- How to Say Happy Diwali in Hindi 

कमल का फूल कोमलता का एक प्रतीक है इसलिए कमल का फूल हमेशा लक्ष्मी माता के पूजन में चढ़ता है और इसका महत्व भी बहुत ज्यादा है। वेदों के अनुसार लक्ष्मी जी के चार हाथ का वर्णन किया गया है जिनसे वह अपने सारे भक्तों को आशीर्वाद देती है और उनके जीवन में धन की कमी नहीं होने देती है।

लक्ष्मी माता का सवारी उल्लू को बताया गया है और माता लक्ष्मी की पूजा आमतौर पर दिवाली के दिन की जाती है क्योंकि दिवाली के दिन माता लक्ष्मी का जन्म हुआ था और उसी दिन माता लक्ष्मी ने भगवान विष्णु जी के साथ विवाह किया था इस खुशी में दिवाली के दिन माता लक्ष्मी जी की पूजा कराई जाती है।

लक्ष्मी पूजन विधि के लिए सामग्री

लक्ष्मी माता का पूजा की विधि जानना और उसे सही तरीके से करना बहुत जरूरी है क्योंकि आप अगर सच्चे मन से नहीं करते हो तो लक्ष्मी माता का आशीर्वाद आप पर नहीं बनेगा इसलिए लक्ष्मी पूजन विधि के बारे में जानना और उसे अच्छे से करना बहुत जरूरी है।

मैं आपको यह बताऊंगा कि लक्ष्मी पूजन विधि के लिए सामग्री क्या-क्या होनी चाहिए किन-किन चीजों से लक्ष्मी पूजा सही तरीके से पूरा हो पाता है लक्ष्मी पूजा के लिए जितने भी सामग्री है वह सब आपके पास होने चाहिए। 

Related:- Happy Diwali Shayari in Hindi

इसलिए आप एक दिन पहले ही या फिर 2 दिन पहले ही बाजार में जाकर सारी सामग्री लक्ष्मी पूजा के लिए अपने घर ले आए। मैं आपसे बात बता दूं लक्ष्मी माता को वस्तुएं पसंद आती है वह लाल गुलाबी या फिर पीले रेशमी वस्त्र आता है आप जरूर से इन रंगों के वस्त्र अपने पास रखें।

माता लक्ष्मी को कमल के फूल या फिर गुलाब के फूल दोनों फूल बहुत ही पसंद है इसलिए अपने पूजन में इन दोनों में से कोई भी फूल कर सकते हैं। माता लक्ष्मी को फल भी काफी पसंद है फल में आप सीताफल, बैर, अनार और सिंघारे भी रख सकते हैं।

लक्ष्मी पूजन की सामग्री में अनाज मैं आप घर के चावल ले सकते हैं शुद्ध मिठाई ले सकते हैं हलवा ले सकते हैं सिरा का नवेद उपयुक्त कर सकते हैं। दिवाली पूजन में आप दीप जलाने के लिए गाय का घी का इस्तेमाल कर सकते हैं मूंगफली या तिली का तेल का भी इस्तेमाल किया जा सकता है।

Related:- Happy Diwali Quotes

इसी के साथ दिवाली पूजन विधि में आपको रोली, कुमकुम, पान, सुपारी, इलायची, कलस, लोंग, चौकी, माता लक्ष्मी और भगवान गणेश जी की मूर्ति या फिर प्रतिमा, आसन, थाली, धूप, अगरबत्ती या चांदी का सिक्का, कपूर, मोली, दीपक, रुई, शहद, दही, गंगाजल, नारियल, गुड, धनिया, जो, गेहूं, चंदन, सिंदूर, सुगंध के लिए केवड़ा, चंदन के इत्र अथवा गुलाब का सामग्री आपके पास होनी चाहिए।

लक्ष्मी पूजन विधि – लक्ष्मी जी की पूजा कैसे करें

आइए आप जानते हैं कि लक्ष्मी पूजन कैसे करें और इसका विधि विधान क्या है लक्ष्मी पूजन करने से पहले उसके विधि के बारे में जानना बहुत जरूरी है। ताकि लक्ष्मी माता का कृपा आप पर बनी रहे लक्ष्मी पूजन की तैयारी हमेशा शाम के वक्त में शुरू होती है।

  • सबसे पहले आप एक चौकी ले ले जिस पर माता लक्ष्मी और भगवान श्री गणेश जी की मूर्तियां रखें और इस बात का हमेशा ध्यान रखें मूर्तियों को इस प्रकार से रखें जैसे लक्ष्मी माता की ढाई दिशा में भगवान श्री गणेश जी की मूर्ति रहे और उनका मुख पूर्व दिशा की ओर रहे।
  • इसके बाद भगवान जी की मूर्ति के सामने बैठकर चावलों की कलश की स्थापना करें।
  • इस कलश को आप भगवान के सामने रख रहे हैं उसके ऊपर एक नारियल रखें और उस पर लाल वस्त्र लपेट से और उसे इस प्रकार रखें कि उस नारियल का केवल अग्रभाग ही दिखाई दे।
  • इसके बाद अब दो दिए ले ले जिसमें से एक मैं आपको गाय की घी डालना है और दूसरे दीए में आप तेल डाल सकते हैं एक दिए को मूर्तियों के चरणों पर रखें और दूसरे दीए को चौकी की दाईं तरफ रखें।

Related:- Happy Diwali Slogan in Hindi

  • इसके बाद आपको एक बात का ध्यान और रखना है कि एक छोटा सा दीपक आप अपने भगवान गणेश जी के पास भी रखें।
  • इसके बाद आपको शुभ मुहूर्त के समय जल, अबीर, चंदन, गुलाल, मौली, धूप, चावल, धानी, फूल, गुड, बत्ती, नवेद यह सब लेकर सबसे पहला काम पवित्रीकरण करें। इसके बाद आपको 26 दिए जलाने होंगे क्योंकि 26 दिए को शुभ माना गया है दिए को जलाकर उन्हें नमस्कार करें और उन पर थोड़े से चावल छोड़ दें।
  • जैसे ही आप ही सब काम कर लेंगे इसके बाद सबसे पहले पुरुष और इसके बाद फिर महिलाएं गणेश जी लक्ष्मी जी और सभी देवी देवताओं का विधिवत षोडशोपचार पूजन, श्री संयुक्त, लक्ष्मी सूक्त एवं पुरुष सूक्त का पाठ करेंगे पूजा करेंगे और आरती भी उतारेंगे।
  • इसके बाद आपको खतों की पूजा करनी है और इसके बाद नए लिखने की शुरुआत करनी है।
  • पूजा के बाद तेल के ढेर सारे दिए जलाए और इसे घर के हर एक कोने में कमरे में, खासकर तिजोरी के पास, आंगन में छत पर सब जगह रख दें ताकि अंधेरा बिल्कुल ना रहे।
  • एक छोटा सा चार मुख वाला दीपक जलाएं और निम्न मंत्र से लक्ष्मी माता की पूजा करें।
  • इसके बाद आपको भगवान को मिठाइयां, पकवान और खीर आदि से भोग लगाना है और उस प्रसाद को अपने परिवार में सब को बांटना है।
  • घर में जितने भी छोटे सदस्य हैं वह सब अपने बड़ों का आशीर्वाद लेंगे और पूरे मन से खुशी से दिवाली पर्व का आनंद उठाएंगे।

Conclusion 

दिवाली पूजन विधि कैसे करना है लक्ष्मी जी को कैसे मनाना है यह सारी बातें मैंने आपको इस लेख में बता दिए आप जब भी क्ष्मी पूजा करें पूरे विधि विधान से करें पूरे मन से करें क्योंकि आधा अधूरा मन आदि श्रद्धा से कोई भी देवता नहीं मानते हैं।

Related:- Happy Diwali Wishes in Hindi 

इसलिए जब भी पूजा करें और सिर्फ लक्ष्मी पूजा ही नहीं आप रोजाना भगवान की पूजा करते हैं तो पूरे मन से करें पूरे श्रद्धा से करें फिर देखें आपके जीवन में बहुत बदलाव आएगा आपके रुके हुए काम हो जायेंगे आपके जीवन में धन की कभी कमी नहीं होगी।

दिवाली का त्योहार है खुशियों का त्योहार है इस त्यौहार को आइए हम सब मिलकर भगवान गणेश जी और माता लक्ष्मी जी को मनाने का प्रयास करते हैं और हम सब मिलकर भगवान से यह मांगते हैं की इस साल की दिवाली किसी की भी घर में दुख ना आए सभी के घर में खुशियों की रोशनी हो और हर कोई खुशी से दिवाली का त्यौहार मनाए, हैप्पी दिवाली।