Gangubai Kathiawadi Biography in Hindi : अभी हाल ही में कुछ समय पहले एक मूवी आई थी जिसमें आलिया भट्ट ने गंगूबाई का किरदार निभाया था इस मूवी के लिए काफी विवाद भी हुआ था।

दरअसल यह फिल्म गंगूबाई काठियावाड़ी के जीवन पर आधारित है इसलिए और गंगूबाई एक मशहूर वेश्या है इसलिए इस फिल्म को लेकर विवाद हुआ था।

तो आज हम बात करने वाले है गंगूबाई काठियावाड़ी के जीवन परिचय के बारे में हमारे भारत देश में ऐसे कितने सारे कहानियां हैं जिनके बारे में शायद ही हमें पता होगा या शायद वह नाम इतने बड़े नहीं है इसलिए उनकी कहानी हम तक पहुंच नहीं पाती है।

Also Read:- Karan Nath Biography in Hindi

एक इंसान अपने जीवन में कितना दर्द जा सकता है गंगूबाई काठियावाड़ी अपने जीवन में ऐसे न जाने कितने दर्द सहे हैं।

दोस्तों आज हम इस आर्टिकल के माध्यम से गंगूबाई काठियावाड़ी के जीवन के बारे में बहुत ही गहराई से जानेंगे और गंगूबाई का नाम इतना मशहूर क्यों हुआ यह भी जानेंगे और क्या आपको पता है गंगूबाई का पति चंद पैसों के लिए गंगूबाई को कोठे पर भेज दिया था।

उस औरत के लिए यह सब सहना बहुत ही मुश्किल हो चुका था और उन्होंने अपने जीवन को किस दिशा में ले गई या उनके नाम से जान सकते हैं।

गंगूबाई का नाम और गंगूबाई का तस्वीर गुजरात के हर एक कोठे के अंदर आपको देखने को मिल जाएगा यह सब कैसे हुआ हम पूरा विस्तार में जानेंगे तो चलिए जानते हैं गंगूबाई कठियावादी के जीवन परिचय के बारे में।

Gangubai Kathiawadi Biography in Hindi – Age, Husband Name, Birth Date, Education

Gangubai Kathiawadi Biography

Quick Information About Gangubai Kathiawadi in Hindi

नाम (Full Name)गंगा हरजीवन दास काठियावाड़ी
निक नाम(Nick Name)गंगो
पेशा (Profession)माफिया क्वीन, कोठा चलाना
शैली (Genre)कोठे वाली
जन्म (Birth Date)1939 के साल
जन्मस्थान (Birth Place)कठियावाड़, गुजरात
गृहनगर (Home Town)कठियावाड़
जाति (Caste)गुजराती
शैक्षिक योग्यता (Educational Qualifications)12वीं पास
वैवाहिक स्थिति (Marital Status)शादीशुदा (Married)
पति का नाम (Husband Name)रमणीक लाल
बालों का रंग (Hair Color)काला
आंखों का रंग (Eyes Color)काला
पसंद (Hobbies)अभिनेत्री बनना
मृत्यु (Death)1978
राष्ट्रीयता (Nationality)भारतीय

कौन है गंगूबाई काठियावाड़ी?

बात करें गंगूबाई की तो गंगूबाई गुजरात के एक अच्छे सम्मानित घर की इकलौती बेटी थी जिसे बड़े होकर अपनी जिंदगी में कुछ करना था आगे बढ़ना था लेकिन किसी कारणवश गंगूबाई अपनी जिंदगी में एक माफिया क्वींन या यू कह ले गंगूबाई के जीवन के कठिन परिस्थितियों ने गंगूबाई को एक डॉन बना दिया एक वेश्या बिजनेस वूमेन बना दिया।

गंगूबाई काठियावाड़ी एक बहुत ही खतरनाक औरत थी ऐसा लोगों का कहना है कि 60 के दशक में गंगूबाई ऐसी पहली औरत थी जिस का खौफ पूरे गुजरात में या पूरे देश में बहुत ज्यादा था।

Also Check:- Neha Bhasin Biography in Hindi

गंगूबाई काठियावाड़ी एक कोटा चलाया करती थी उस समय के दौरान गंगूबाई से सारे लोग डरा करते थे उनसे झगड़ने से पहले कई बार सोचते थे गंगूबाई का डर बहुत ही ज्यादा था और वह एक डॉन की तरह अपना जीवन जीती थी गंगूबाई का कोठे का बिजनेस बहुत ही ज्यादा बड़ा था और उनका बिजनेस पूरे भारत देश में सारे जगह फैले थे और उसके काफी ब्रांच पूरे देश में बटे थे।

Gangubai Kathiawadi Early Life in Hindi

अब बात करते हैं गंगूबाई के जीवन परिचय के बारे में गंगूबाई का जन्म 1939 में काठियावाड़ नामक शहर गुजरात मैं हुआ था।

गंगूबाई के परिवार वाले एक बहुत ही इज्जतदार और सम्मानजनक परिवारों में से रहने वाले थे उनके घर में सभी लोग बहुत ही डिसिप्लिन मेरा करते थे गंगूबाई के परिवार में उनके पिताजी अपनी बेटियों को पढ़ा लिखा कर आगे बढ़ाने वालों में से थे और गंगूबाई के पिताजी भी यही चाहते थे की गंगूबाई बड़ी होकर और लिख कर हमारा नाम रोशन करें और गंगूबाई अपने परिवार में इकलौती बेटी थी इसलिए उनके माता-पिता उनसे बहुत प्यार करते थे और उसे आगे बढ़कर कुछ बनना देखना चाहते थे।

बात करें गंगूबाई के बचपन की तो बचपन से ही गंगूबाई को पढ़ने लिखने का कोई शौक नहीं था वह बचपन से ही फिल्मों में मूवीस में अपने आपको देखा करती थी और वह चाहते थे कि वह बड़ी होकर एक हीरोइन के रूप में काम करें और इसीलिए वह मुंबई जाना चाहती थी।

गुजरात के एक इज्जतदार परिवार में गंगूबाई का जन्म 1939 को हुआ था और बचपन से ही गंगूबाई मुंबई जाकर हीरोइन बनने की बात किया करती थी और वह चाहती थी कि वह खुद को बड़े पर्दे पर किसी दिन देखें।

Check this also:- Abhinav Bindra Biography in Hindi 

जैसा कि मैंने आपको बताया गंगूबाई को मुंबई जाने का बहुत ही मन था और वह जल्द से जल्द मुंबई जाना चाहती थी ताकि वह अपने करियर की शुरुआत कर सके अपने आपको एक एक्ट्रेस के रूप में देख सकें। गंगूबाई के पिताजी के पास एक अकाउंटेंट मैनेजर काम किया करता था जिसका नाम रमणीक था।

रमणीक गुजरात मैं रहने से पहले मुंबई में रहा करता था और जब यह बात गंगूबाई को पता चली तो गंगूबाई रमणीक से नजदीकी बढ़ा ली और उससे दोस्ती कर ली ताकि वह उसे मुंबई ले जाए और धीरे-धीरे यह दोस्ती कब प्यार में बदल गई पता ही नहीं चला फिर दोनों की शादी हो गई।

शादी के बाद पति ने गंगूबाई को कोठे पर सिर्फ ₹500 के लिए बेच दिया

जब गंगूबाई को रमणीक से प्यार हो गया तब उन दोनों ने भागकर मंदिर में शादी कर ली और चुपचाप सीधा मुंबई आ गए। जिस समय गंगूबाई की शादी हुई उस समय गंगूबाई सिर्फ 16 साल की थी और इतनी छोटी सी उम्र में गंगूबाई ने एक उम्रदराज आदमी से शादी कर ली और दोनों मुंबई में अपना जीवन बिताने लगे।

जब रमणिका के पास घर खर्च के लिए पैसे नहीं थे और अपना पेट पालने के लिए अपनी पत्नी को सिर्फ ₹500 में एक कोठे वाली औरत को बेच दिया।

गंगूबाई को इसके बारे में भनक भी नहीं थी कि वह किसके साथ जा रही है वह एक कोठे वाली है रमणीक ने गंगूबाई को यह कहकर साथ में भेजा था कि मैं हम दोनों के लिए एक नया घर खरीदने वाले हैं इसलिए तब तक तुम मेरी मौसी के साथ इनके घर पर रहो कुछ समय के बाद जब मैं घर ले लूंगा तब मैं तुमको अपनी मौसी के घर से ले आऊंगा यह क्या कर उसे एक कोठे वाली औरत के साथ भेज दिया। जिसके साथ गंगूबाई जा रही थी वह औरत मुंबई के मशहूर रेड लाइट एरिया कमाठीपुरा मैं एक कोटा चलाने वाली थी।

गंगू से गंगूबाई बनने तक का सफर

जब गंगूबाई उस औरत के साथ उस रेड लाइट एरिया कमाठीपुरा में गए तब वह सारे लोग से बहुत ही अनजान थी इसके बाद जब उसको बताया गया कि तुम्हारे पति ने तुम्हें सिर्फ ₹500 के लिए यहां बेच दिया है तब गंगूबाई को बहुत ही बुरा लगा और इसके बाद फिर वह अपने परिस्थितियों के साथ समझौता भी कर ली थी।

इसके बाद धीरे-धीरे गंगूबाई वहां काम करने लगी फिर एक दिन अचानक एक वैश्य दरिंदा आया जिसका नाम शौकत खान था।

वह इंसान गंगूबाई के साथ जबरदस्ती कि और पूरी रात इस कदर गंगूबाई को परेशान किया कि उसकी हालत इतनी खराब हो गई तुरंत गंगूबाई को अस्पताल लेकर जाना पड़ा। वो इंसान गंगूबाई को बिना पैसे दिए वहां से भाग गया था।

इसके बाद जब गंगूबाई अस्पताल से पूरी तरह से ठीक हो कर आई थी तब जिस इंसान ने उसके साथ ऐसा काम किया था उसके बारे में उसने जानना शुरु कर दिया उस इंसान की पूरी जानकारी जानी तब उसे यह पता चला जिस इंसान ने गंगूबाई के साथ ऐसा किया है वह मुंबई का मशहूर डॉन करीम लाला के साथ काम करता है।

जैसे ही गंगूबाई को यह पता चला तुरंत करीम लाला के पास पहुंचे और अपनी मदद के लिए पुकार लगाई।

करीम लाला ने गंगूबाई की पूरी बात सुनी इसके बाद उसने तय किया कि गंगू बाई को इंसाफ मिलना चाहिए और उसी के बाद करीम लाला ने शौकत खान को कड़ी से कड़ी सजा दी।

इसी के बाद गंगूबाई ने करीम लाला को धन्यवाद भी किया और इसी के साथ-साथ करीम लाला को राखी भी बांधी और उसे अपना मुंह बोला भाई भी बनाया।

मुंबई के मशहूर डॉन करीम लाला का नाम हर जगह थाऔर हर जगह करीम लाला का खौफ भी था इसलिए जिस दिन से गंगूबाई ने करीम लाला को राखी बांधीउस दिन से मुंबई में गंगूबाई को लोग कमाठीपुरा मैं डॉन के नाम से भी जाना शुरू कर दिए धीरे धीरे जैसे लोग करीम लाला के नाम से डरते थे वैसे वैसे गंगूबाई के नाम से भी मुंबई में खौफ बढ़ने लगी थी।

धीरे-धीरे मुंबई में गंगूबाई का नाम फैलता गया और वह प्रचलित होती गई इसके बाद गंगूबाई ने वहां की जितनी भी रेड लाइट एरिया थे उन सब में वैश्य औरतों के लिए बहुत सी साधन प्रदान की और उनके लिए बहुत से सकारात्मक काम भी किया।

गंगूबाई नेवी काम करना शुरू कर दिया था वह भी अब कोठा चलाने का काम करती थी गंगूबाई ने एक बार ऐसा कहा था कि अगर मुंबई में कोठा ना हो तो मुंबई की औरतों का सड़क पर चलना मुश्किल हो जाएगा।

गंगूबाई तो वेश्यावृत्ति मैं पूरी तरह से ढल चुकी थी इन्होंने ऐसे बहुत सारे कोठे अपने नाम कर लिए थे लेकिन इसके बावजूद भी गंगूबाई कोठो में ऐसी औरतों को नहीं रखती थी जो इस काम को करना नहीं चाहती हैं या फिर इस काम के लिए वह तैयार नहीं है गंगूबाई हमेशा उन औरतों को रखती थी जो खुद से वैश्या बनना चाहती थी और वहां काम करना चाहती थी।

गंगूबाई काठियावाड़ी के बारे में कुछ नए रोचक तत्व (Interesting Facts)

  • गंगूबाई का पूरा नाम गंगा हरजीवनदास काठियावाड़ी था लेकिन जब मुंबई के रेड लाइट एरिया मैं गंगूबाई गई तब उसका नाम गंगा से गंगूबाई पर गया।
  • गंगूबाई की जीवन में जो जो भी घटनाएं हुई और जिन जिन वजह से गंगूबाई का नाम इतना आगे बढ़ा जिस तरह से गंगूबाई मशहूर डॉन करीम लाला के बहन बनी। इन सब बातों को लेकर गंगूबाई को मुंबई में “माफिया क्वीन ऑफ़ मुंबई” का नाम मिला।
  • गंगूबाई ने अपने पूरे जीवन में सिर्फ वेश्याओं के लिए अच्छा काम नहीं किया बल्कि गंगूबाई का दिल अच्छा था गंगूबाई बहुत अच्छे अच्छे काम किए गंगूबाई ने महाराष्ट्र में अनाथ बच्चों के लिए बहुत बड़े बड़े काम की है और बहुत लोगों को मदद भी की है।
  • महाराष्ट्र के मशहूर डॉन करीम लाला की जब गंगूबाई मुंह बोली बहन बनी तब इसी के बाद गंगूबाई को भी महाराष्ट्र में लेडी डॉन के नाम से सारे लोग उन्हें पहचानने लगे।
  • 60 के दशक में गंगूबाई मुंबई के सबसे खतरनाक औरतों में से जानी जाती थी गंगूबाई का खौफ सारे लोगों के अंदर था और बहुत सारे लोग उनसे डरा करते थे।

गंगूबाई काठियावाड़ी बायोपिक फिल्म, रिलीज डेट (Release Date)

गंगूबाई काठियावाड़ी की पूरी जीवन एक बड़े से पर्दे पर दिखाएं जाने वाला है बॉलीवुड के मशहूर डायरेक्टर संजय लीला भंसाली के द्वारा यह फिल्म बनने वाली है इस फिल्म में गंगूबाई का पूरा जीवन बताया जाएगा और इसी के साथ साथ मुंबई के रेड लाइट एरिया के बारे में भी असलियत बताया जाएगा।

इस फिल्म में गंगूबाई का किरदार बॉलीवुड की मशहूर टैलेंटेड एक्ट्रेस आलिया भट्ट निभाने वाली है और इस मूवी में आलिया भट्ट गंगूबाई का किरदार निभा रही है तो उनको गंगूबाई की तरह काठियावाड़ भाषा भी सिखाया गया है।

बड़े पर्दे पर गंगूबाई काठियावाड़ी फिल्म आ चुकी है यह फिल्म 30 जुलाई 2021 को बड़े पर्दे पर आ चुकी है और बहुत सारे लोग इस मूवी को पसंद भी किए हैं।

इस फिल्म को करने के दौरान आलिया भट्ट को गंगूबाई की तरह बोलने के लिए गंगूबाई की तरह चलने के लिए सिखाया गया है और इसी के साथ-साथ आलिया भट्ट को ऐसे करने गंदी गालियां भी सिखाई गई है ताकि इस फिल्म मैं आलिया भट्ट गंगूबाई के रूप में पूरी तरह से दिखे।

इस फिल्म में आपको बड़े-बड़े स्टार्स देखने को मिलेंगे जैसे कि अजय देवगन, विजय राज, शांतनु महेश्वरी और भी ऐसे कई कलाकार है जो इस फिल्म में काम किए हैं।

गंगूबाई काठियावाड़ी फिल्म पर उठा विवाद ऐसा क्यों?

गंगूबाई काठियावाड़ी फिल्म जो कि संजय लीला भंसाली के द्वारा बनाई गई है उस फिल्म को लेकर काफी विवाद छिड़ गई है ऐसा कहा जा रहा है कि गंगूबाई काठियावाड़ी के बेटे बापू जी राव जी शाह ने डायरेक्टर संजय लीला भंसाली, आलिया भट्ट, भंसाली प्रोडक्शन और उनकी पूरी टीम पर केस दर्ज कर दी है।

गंगूबाई के बेटे बापू जी राव जी शाह का कहना है कि फिल्म में जो दिखाई जा रही है वह काफी हद तक गलत है।

इस वजह से वह उन सब पर केस किए हैं और उनका यह भी कहना है कि बुक के पेज नंबर 50 से लेकर नंबर 69 तक जितनी भी प्रकार की जानकारियां बताई गई है वह सारी जानकारियां छूट है गलत है। इस वजह से इस फिल्म पर विवाद हो गया था और इसकी सुनवाई भी हो चुकी है।