Essay on Holi in Hindi: होली पूरे भारत का सबसे महत्वपूर्ण त्योहार है होली का त्यौहार पूरे भारत में धूमधाम से मनाया जाता है और इस त्यौहार को भारत के बाहर भी मनाया जाने लगा है।

होली का त्यौहार जब भी आता है साथ में ढेर सारी खुशियां लेकर आता है होली रंगों का त्योहार है जो हर साल फाल्गुन माह के पूर्णिमा में आता है। आज के Article Essay on Holi in Hindi मैं आप होली के बारे में विस्तार रूप से जानेंगे।

होली हर साल मार्च के महीने में आता है और इस समय वसंत ऋतु (Spring Season) का मौसम होता है वसंत ऋतु का मौसम बहुत ही प्यारा और खुशनुमा होता है और इसी मौसम में होली का Festival को लोग बहुत ही उत्साह से मनाते हैं।

Related:- Winter Season Essay in Hindi 

वैसे तो होली सबके लिए उत्साह बढ़ाते बार होता है लेकिन बच्चों के लिए यह त्यौहार काफी ज्यादा उत्साह वाला होता है क्योंकि होली में सब बच्चे बलून में पानी भरकर एक दूसरे को मारते हैं पिचकारी में रंग भर कर खेलते हैं और इस त्यौहार का पूरा आनंद उठाते हैं।

इस लेख में हम होली के महत्व के बारे में जानेंगे और हम यह भी जानेंगे कि होली त्यौहार हम हिंदुओं क्यों मनाते हैं यह हमारे लिए इतना जरूरी क्यों है होली त्यौहार के बारे में जानने के लिए इस लेख को अंत तक पढ़ें।

होली पर निबंध 2021 | Essay on Holi in Hindi

Essay on Holi in Hindi

होली का त्यौहार बहुत सी उत्साह वाला त्यौहार होता है इसमें बच्चे बूढ़े सभी इस त्यौहार का आनंद उठाते हैं यह त्यौहार सकारात्मक ऊर्जा लाती है और हर तरफ रंग बिरंगे रंग आसमान में उड़ते नजर आते हैं जो देखने में बहुत ही प्यारे लगते हैं।

होली के त्यौहार आने से पहले ही इसकी तैयारी शुरू कर दी जाति है इसमें लोग अपने घर में विभिन्न तरह का पकवान बनाते हैं जिसमें गुजिया, गुलाब जामुन, दही भल्ले, पूरी, महत्वपूर्ण भोजन होता है।

Also check:- Computer Essay in Hindi | कंप्यूटर का महत्व पर निबंध

यह त्यौहार में लोग अपने लिए नए नए कपड़े खरीदते हैं अच्छे-अच्छे पकवान खाते हैं इस त्यौहार को हर जगह अलग-अलग तरह से मनाया जाता है इस्तेमाल कुछ लोग बुराई पर अच्छाई की जीत का प्रतीक मानते हैं और बहुत ही धूमधाम से इस त्यौहार को मनाते हैं।

होली पर निबंध 250 शब्दों में | Holi Essay in 250 Words

होली का पर्व पूरे भारत वासियों के लिए एक बहुत ही महत्वपूर्ण पर होता है और यह त्योहार पूरे भारत में बड़े उत्साह के साथ मनाया जाता है होली एक ऐसा पर्व है जिसमें लोग सब कुछ भूल कर अपने दुश्मन को भी प्यार से गले लगाते हैं।

होली के रंगों का महत्वपूर्ण त्यौहार है इस रन की खूबसूरती में लोग सब भूल जाते हैं और अपने परिवार के साथ अपने दोस्तों के साथ इस त्यौहार का आनंद उठाते हैं। होली का त्यौहार हमारी भारतीय संस्कृति में सबसे प्यारा त्यौहार माना जाता है।

भारत एक त्यौहारों का देश है हमारे भारत में विभिन्न तरह के त्यौहार मनाए जाते हैं और हर त्यौहार के पीछे कोई ना कोई कहानी जरूर होती है होली के पीछे भी बहुत ही दिलचस्प कहानी है और कई मान्यता प्रचलित है।

होली एक ऐसा पर्व है जो सिर्फ हिंदू ही नहीं बनाते बल्कि सारे धर्मों के लोग इस त्यौहार का आनंद उठाते और इसे धूमधाम से मनाते हैं इस दीवार को हम एक दूसरे को रंग लगा कर मनाते हैं इसमें हम बहुत ही स्वादिष्ट पकवान खाते हैं।

Also Read:- Dog Essay in Hindi | कुत्ते पर निबंध हिंदी में

होली में लोग धार्मिक और फागुन के गीत भी गाते हैं इस दिन हम लोग गुजिया, पापड़, हलवा यह सब खाते हैं जो कि बहुत स्वादिष्ट होते हैं होली मनाने से पहले हम सब होलिका दहन मनाते हैं होलिका दहन बनाने के पीछे भी एक कहानी है जो मैं आपको आगे बताऊंगा।

वसंत ऋतु के मौसम में होली मनाई जाती है वसंत ऋतु में वैसे ही मौसम में इतना मिठास होता है इतना प्यार होता है और इस मौसम में होली जैसे प्यारे त्यौहार को मनाया जाता है जिससे होली त्यौहार में और भी आनंद आता है यह त्यौहार हमें बुराई पर अच्छाई की जीत सिखाती है।

होली पर निबंध 400 शब्दों में | 400 Words Holi Essay

होली का त्योहार रंगों का त्योहार होली का त्योहार प्यार का त्योहार है इस दीवार में लोग दूर-दूर से आते हैं और जो लोग अपने घर से बहुत दूर रहते हैं वह भी इसके बारे में अपने घर पर आकर इस का आनंद उठाते हैं।

क्योंकि यह त्यौहार बहुत ही उत्साह वाला त्यौहार है इस त्यौहार को सभी लोग दिल से बहुत पसंद करते हैं और इस त्यौहार को धूमधाम से मनाते हैं यह त्यौहार हमें हमारे संस्कृत से जोड़ता है यह त्योहार हमारे लिए बहुत ही महत्वपूर्ण होता है।

इस त्यौहार को पूरे भारत में अलग-अलग तरह से बनाया जाता है जैसे कि ब्रजभूमि में लठमार होली खेली जाती है मथुरा और वृंदावन की होली अलग होती है महाराज और गुजरात की मटकी फोर होली खेली जाती है पंजाब का होला मोहल्ला मनाया जाता है।

बंगाल की डोल पुर्णिमा होली खेली जाती है और मणिपुर की होली अलग ही होती है इसमें थाबल चोंगबा नृत्य होली खेला जाता है इस त्यौहार का महत्व बहुत ज्यादा है।

Related:- Spring Season Essay in Hindi 

इसलिए इस त्यौहार को अलग-अलग जगह पर अलग-अलग तरीकों से खेला जाता है और इसकी खूबसूरती मानो पूरे दुनिया में फैली हुई है अब तो बाहर के लोग भी इस त्यौहार को मनाना शुरू कर दिए हैं।

होली का त्यौहार कैसे मनाया जाता है

इस दिन सभी लोग सुबह-सुबह अपने घरों से बाहर निकलते हैं सफेद कपड़ा पहनकर हाथों में रंग लेकर और हाथ में पिचकारी लेकर सभी अपने दोस्तों से मिलते हैं अपने परिवार के साथ रंगों से होली खेलते हैं गुलाल से होली खेलते हैं पिचकारी से होली खेलते हैं।

होली खेलने के दौरान लोग भांग या ठंडाई पीने का शौक रखते हैं इसके बाद होली का त्यौहार और भी खुशनुमा हो जाता है महिलाएं अपने घरों में होली का स्वादिष्ट पकवान बनाने में व्यस्त रहती हैं बच्चे बुजुर्ग बाहर होली खेलते हैं।

दोपहर तक यह सिलसिला चलता रहता है इसके बाद सभी लोग अपने घर में जाते हैं स्नान करते हैं खुद को साफ करते हैं इसके बाद शाम को लोग अच्छे अच्छे कपड़े पहन कर हाथ में गुलाल लेकर एक दूसरे के घर जाते हैं उनसे आशीर्वाद लेते हैं उन्हें गुलाल लगाते हैं।

इस दिन सभी के घरों में अच्छे-अच्छे पकवान बनते हैं जो कि मेहमानों के लिए बनाए जाते हैं इस दिन सभी लोग एक दूसरे के घर जाते हैं उनसे आशीर्वाद लेते है और बहुत ही स्वादिष्ट पकवान खाते हैं इसी तरह होली का यह प्यारा त्यौहार समाप्त हो जाता है।

होली पर निबंध Class 4 | Class 4 Holi Essay

होली का त्यौहार आने से पहले ही लोगों में एक अलग तरह की उत्साह दिखाई देती है बड़े हो जाए बच्चे हो उस सब के चेहरे पर एक खुशी होती है सब की परेशानियां मानो गायब हो जाती है।

इससे बारे में बच्चे बड़ों का आशीर्वाद लेते हैं उनके पैर पर गुलाल लगाते हैं यह त्यौहार अमीरी गरीबी नहीं दिखता है इस परिवार को हर कोई बहुत ही झूम कर मनाता है होली के त्यौहार में भांग और ठंडाई कुल लोग पीना बहुत ही पसंद करते हैं इस दिन अपने घरों में बाहर लोग ठंडाई बनाकर पीते हैं।

सुबह-सुबह साहब होली खेलने के लिए अपने घर से बाहर निकलते हैं और महिलाएं अपने घर में पकवान बनाती हैं सभी लोग दोपहर तक जम के होली खेलते हैं इसके बाद दोपहर से महिलाएं उत्साह के साथ आपस में होली खेलती हैं।

होली का त्यौहार मनाने से पहले हम होलिका दहन बनाते हैं क्योंकि होली के 1 दिन पहले मनाई जाती है यह एक परंपरा होती है इस परंपरा को हम सभी बहुत ही उत्साह के साथ मनाते हैं।

Also check:- Shiksha Ka Mahatva Essay in Hindi 

होलिका दहन हमारे भगवान की शक्ति का प्रतीक बताता है और बुराई पर अच्छाई की जीत का ज्ञान हम सब को देता है सारे त्योहारों में होली एक ऐसा त्यौहार है जिसमें उत्साह और आनंद भरपूर होता है और यह त्यौहार प्राचीन समय से मनाया जा रहा है।

होली का त्यौहार एक ऐसा त्यौहार है जिसमें लोग इतने मग्न हो जाते हैं इतने झूम जाते हैं कि उनको किसी की बुराई किसी की खामियां तक नहीं दिखती है होली का त्यौहार रंगों का त्यौहार होता है और इस रंग में सब लोग मस्त मगन हो जाते हैं।

होली का त्यौहार एकता का त्यौहार होता है इस दिन सारे लोग सफेद कपड़े पहन कर इस त्यौहार का आनंद उठाते हैं हर इंसान इस त्यौहार को बड़ी धूमधाम से मनाता है और इस दिन लोग मिठाइयां और विभिन्न तरह के व्यंजन खाना बहुत पसंद करते हैं।

होली पर निबंध Class 8 | Holi Essay For Class 8

होली खुशियों का त्योहार है जिस तरह से होली को हमारे Bharat में मनाया जाता है ऐसा कोई Festival शायद ही कहीं मनाया जाता होगा इस दिन सभी लोग अपने गुस्से को साइड रखकर अपने दुश्मनों को भी गले लगाते हैं और उनके साथ होली खेलते हैं।

होली त्यौहार आने से पहले हमें यह जानना बहुत जरूरी है कि हम होली का त्यौहार मनाते क्यों है क्योंकि बहुत सारे लोगों को यह नहीं पता है कि इस त्यौहार को मनाने का पीछे कहानी क्या है चलिए सबसे पहले हम यह जानते हैं की होली का त्यौहार मनाते क्यों है।

होली का त्यौहार मनाते क्यों है

प्राचीन समय में एक राक्षस हुआ करते थे जिनका नाम हिरणकश्यप था उनकी एक बहन थी जिसका नाम होलिका था। होलिका को आग से डर नहीं लगता था उसे ऐसा वरदान दिया गया था कि तुम आपसे कभी भी जलकर नहीं मरोगी।

हिरणकश्यप राक्षस का एक पुत्र भी था उसका नाम प्रहलाद था। प्रहलाद हमारे भगवान विष्णु के बहुत ही बड़े भक्त थे लेकिन उनके पिता हिरणकश्यप अपने आगे किसी को नहीं समझते थे वह खुद को भगवान मानते थे

वह चाहते थे कि सभी निवासी सब की भक्ति छोड़कर सिर्फ मेरी पूजा करें और इसी के साथ हिरण कश्यप भगवान विष्णु को स्नेह नहीं करते थे उनसे विरोध करते थे और यही एक कारण है कि हिरणकश्यप को अपना पुत्र प्रहलाद पसंद नहीं था।

हिरणकश्यप एक ऐसा राक्षस था जो अपने परिवार को भी अपना नहीं मानता था इसने अपने बेटे प्रह्लाद को कई बार मारने की योजना भी बनाई क्योंकि वह भगवान विष्णु के बहुत बड़े भक्त थे इसी वजह से हिरणकश्यप अपने पुत्रों को मारना चाहता था लेकिन इसमें वह सफल नहीं हो पाया।

Also Read:- Pollution Essay in Hindi 

जब फिर हिरणकश्यप अपने पुत्र को नहीं मार पाया तब उसने अपनी बहन से मदद ली। होलीका एक बहुत ही दुष्ट महिला थी उसने प्रह्लाद को मारने के लिए हां कर दिया।

होलीका के पास एक ऐसा वरदान था जिसमें वह कभी भी चलकर नहीं मर सकती थी इसलिए उसने यह सोचा कि मैं प्रह्लाद को आग में लेकर बैठ जाऊंगी तब उसकी जल कर मृत्यु हो जाएगी परंतु ऐसा बिल्कुल ना हुआ।

होलिका और प्रहलाद जैसे ही अग्नि में गए प्रहलाद भगवान विष्णु के बहुत बड़े भक्त थे उन्होंने भगवान विष्णु का नाम लगातार लेते रहे भगवान विष्णु के आशीर्वाद से प्रह्लाद को कुछ भी नहीं हुआ है लेकिन होलिका उसी आग में जलकर मर गई।

इसी वजह से होली त्यौहार मनाने से एक दिन पहले होलिका दहन मनाया जाता है क्योंकि इस दिन “बुराई पर अच्छाई की जीत” का प्रतीक माना जाता है और होलिका दहन में जब होलिका की मृत्यु हो गई थी इसके बाद लोग खुशी में इस होली का त्यौहार मनाने लगे।

होली त्योहार का महत्व

होली त्यौहार का महत्व हम सभी हिंदुओं के लिए बहुत ही ज्यादा महत्वपूर्ण रखता है बहुत सारे गांव में होलिका दहन के दिन परिवार के सभी लोगों को उबटन लगाने का प्रथा मनाया जाता है इसमें हल्दी, सरसों और दही का लेप होता है जो सबको लगाना पड़ता है।

ऐसी मान्यता है कि उबटन लगाने से इंसान के सभी बुरे विचार, रोग नष्ट हो जाते हैं और इस दिन सभी अपने घर से लकड़ी होलिका दहन में जलाते हैं ताकि उनके घरों से रोग दूर हो जा और एक सकारात्मक विचार मन में आए।

होली के त्यौहार के दिन सभी लोग सारे रंजीसे भूल कर अपने दुश्मनों को भी दिल से गले लगाते हैं और उनके साथ रंग लगाकर होली का त्यौहार को बड़ी धूमधाम से मनाते हैं।

होली पर निबंध बच्चों के लिए 10 लाइन | 10 Lines on Holi

  • होली का त्यौहार हम सबके लिए काफी मायने रखता है क्योंकि इस दिन हम अपने बुराई पर अच्छाई की जीत मनाते हैं।
  • भारत में होली के त्यौहार को बहुत खास त्यौहार मनाया जाता है हिंदुओं के लिए काफी अच्छा त्यौहार होता है।
  • होली के त्यौहार को Festival of Colour भी कहा जाता है।
  • होली के त्यौहार हर साल कार्तिक मास के महीने में मनाया जाता है।
  • होली की शुरुआत रंगों से होती है सभी लोग रंग से होली खेलते हैं और खूब आनंद उठाते हैं।
  • होलिका दहन होली से एक दिन पहले आता है इस दिन लोग लकड़ी चला कर इस त्योहार को मनाते हैं।
  • होली का त्यौहार सिर्फ हिंदुओं का त्यौहार नहीं होता है बल्कि इस त्यौहार को सभी धर्मों के लोग बड़ी धूम-धाम से मनाते हैं।
  • प्राचीन काल में लोग प्राकृतिक रंगों से इस त्यौहार को मनाते थे इसलिए होली का त्यौहार प्रकृति से जुड़ा त्यौहार भी माना जाता है।
  • होली मनाने के लिए आज के समय में लोग बहुत केमिकल वाले रंगों का इस्तेमाल करते हैं जो हमारे त्वचा के लिए बहुत हानिकारक होता है।
  • होली का त्यौहार बहुत थी उत्सव वाला त्यौहार है इस त्यौहार को बड़े बुजुर्ग सभी बड़े जश्न के साथ मनाते हैं।

FAQ on Essay on Holi in Hindi 

Q1. होली के त्यौहार का क्या महत्व है?

हिंदुओं के लिए होली का त्योहार बहुत ही महत्वपूर्ण होता है होली का त्यौहार हमें अपनी संस्कृति से जोड़ता है इसलिए इस परिवार का महत्व हम सभी के लिए बहुत ज्यादा होता है।

Q2. होली क्यों मनाई जाती है निबंध?

होली मनाने के पीछे सिर्फ एक ही उद्देश्य बुराई पर अच्छाई की जीत हो ना इसलिए होली का त्योहार को हम इतनी खुशी के साथ मनाते हैं।

Q3. क्यों मनाया जाता है होलिका दहन?

होलिका दहन हम इसलिए मनाते हैं क्योंकि इस दिन हिरणकश्यप की बहन होलिका अग्नि में जलकर मरी थी। होलीका एक बहुत ही दुष्ट महिला थी जो अपने भतीजे को आग में जलाकर मारना चाहते थे।

Q4. होली से क्या शिक्षा मिलती है?

दोस्तों होली के त्योहार से हमें यह शिक्षा मिलती है कि हमें कभी भी बुरे काम नहीं करना चाहिए और हमेशा अपने जीवन में अच्छाई की ओर आगे बढ़ना चाहिए।

Conclusion 

होली का त्यौहार बहुत ही प्यारा त्यौहार है इस त्यौहार को हमें सबके साथ बहुत खुशी से मनाना चाहिए क्योंकि यह त्योहार अच्छाई का प्रतीक माना गया है इसलिए अपने बुरी आदतों को खत्म करें और दूसरों की मदद करें।

आज हमने होली पर निबंध (Essay on Holi in Hindi) के बारे में जाना और होली क्यों मनाई जाती है होली कब मत हो क्या है इन सब के बारे में बहुत ही विस्तार रूप से जाना। 

हमारा देश त्योहारों का देश है और इसमें जितनी भी त्यौहार मनाई जाती है वह सब बहुत ही महत्वपूर्ण त्यौहार होती है हर भारतवासियों को त्योहार मनाने के पीछे जो कथा है उन सब के बारे में जानना बहुत जरूरी है तभी आप अपनी संस्कृति से जुड़ पाएंगे।

दिवाली का त्यौहार आ रहा है आप सभी अपने घर में अपने परिवार के साथ इस त्यौहार का आनंद लें केमिकल रंगों से दूर रहे हैं उनसे आपकी त्वचा खराब हो सकती है घर में रहे अपने परिवार के साथ होली का आनंद उठाएं हैप्पी होली!