आज हम बात करने वाले है Computer Bios kya hai अगर आप कंप्यूटर चलाना जानते है तब आपने कभी ना कभी Bios के बारे में सुना ही होगा अगर नहीं सुना है तब इसके बारे में आपको जरूर जानना चाइये क्यू की ये कंप्यूटर का बेहद Important Part है और BIOS का कंप्यूटर में मुख काम क्या होता है।

BIOS कहाँ Stored होता है, BIOS के कितने प्रकार होते है इन सबके बारे में अगर आप जानना चाहते है तो आप इस पोस्ट को पूरा पढ़े में आज आपको BIOS के बारे में Step by Step Guide करने वाला हु।

और में आपको ये भी बताने वाला हु की Bios को कैसे Access करते है तो आये जानते है Bios क्या होता है|

Bios क्या है? What is Bios in Hindi

computer bios kya hai

Bios एक तरह का software या Firmware होता है। BIOS computer का महत्वपूर्ण हिस्सा होता है। Bios का पूरा नाम Basic Input/Output System होता है। क्या आप जानते है इसे System Bios या PC Bios भी कहा जाता है और Bios ऐसा Software होता है जो सबसे पहले Computer में Start होता है Bios Software कंप्यूटर को Boot कराने में मदद करता है।

यह एक ऐसा सॉफ्टवेयर है जो Computer के सुरु होने पर POST (Power of Self Test) के मदद से ये जांचा जाता है की कंप्यूटर के सारे हार्डवेयर Component काम करने के लिए तयार है या नहीं हार्डवेयर Component को जांच करने के बाद ही आपका कंप्यूटर Start होता है|

Bios हमारे कंप्यूटर के Motherboard में होता है और जैसे ही हमारा कंप्यूटर स्टार्ट होता है उसी के साथ साथ Bios भी Start हो जाता है अगर इसे आसान शब्दो में कहे तो कंप्यूटर को Start होने के दौरान कंप्यूटर में लगे Microprocessor ये समझना बोहत जरूरी होता है की आपके कंप्यूटर Device के साथ साथ कौन कौन से Hardware Component जुड़े है।

Also Read:- Best Laptop for Gaming and Video Editing

और इस Booting Process को अगर आपके कंप्यूटर में लगे Microprocessor Check करना सुरु करदे तो आपका कंप्यूटर Start होने में काफी समय लेलेगा इसलिए इस Booting Process को Check करने के लिए एक सॉफ्टवेयर को बनाया गया है जिसका नाम Bios रखा गया है।

Bios के मदद से कंप्यूटर Start होने के दौरान Input और Output Device को जांचता है की वो एक दूसरे के साथ Connect है या नहीं और इस Data के द्वारा बायोस कंप्यूटर में लगे Microprocessor को Signal बेझता है और फिर आपका कंप्यूटर Start होता है|

Bios का फुल फॉर्म क्या है? Full Form of Bios in Hindi

Bios का फुल फ्रॉम होता है Basic Input/Output Systemजो कि हमारे कंप्यूटर के मदर बोर्ड के अंदर पाया जाता है अगर हमारे कंप्यूटर में Bios ना हो तो हमारा कंप्यूटर स्टार्ट नहीं हो सकता है अब जानते हैं कि Bios का मुख्य काम क्या होता है|

Bios का क्या कार्य होता है? Main Function of Bios in Hindi

Bios का मुख्य कार्य कंप्यूटर या ऑपरेटिंग सिस्टम को Boot करना होता है इसके कार्यक्षमता को 4 महत्वपूर्ण भागों में बांटा गया है जो कि कुछ इस प्रकार है –

CMOS Setup

CMOS Setup आपके सिस्टम टाइम और हार्डवेयर Configure को Save करके रखता है और साथ ही साथ CMOS Setup आपके पासवर्ड समय और Date को भी चेक करते रहता है और कंप्यूटर में सही टाइम और डेट को मैनेज करना CMOS सेटअप का काम होता है|

POST (Power of Self Test)

Power of Self Test की मदद से आपके कंप्यूटर के हार्डवेयर का टेस्ट लेता है साथ ही साथ यह भी जांचता है कि आपके ऑपरेटिंग सिस्टम मैं किसी भी तरह का Problem तो नहीं है इसके जांचने के दौरान यह आपके प्रोसेसर, मेमोरी, वीडियो, चिपसेट, डिस्क ड्राइव, कीवर्ड इत्यादि को भी जांच ता है और इसकी इंफॉर्मेशन माइक्रोप्रोसेसर को देता है अगर इसके जांचने के दौरान किसी भी तरह का परेशानी दिखती है तो यह एक बीप की आवाज में संकेत दे देता है|

Bootstrap Loader

अब बात करते हैं Bootstrap Loader की जोकि Bios के प्रमुख कार्यों में से एक है Bootstrap Loader एक सक्षम OS (Operating System) स्थिति का पता लगाने का काम करती है BIOS सबसे पहले एक Bootable Medium को ढूंढता है और उसके बाद बूटेबल मीडियम को Read कर के जितने भी जरूरी फाइल्स होते हैं उनको RAM में लोड करता है और इसके बाद ही हम अपने कंप्यूटर को इस्तेमाल कर पाते हैं या फिर स्टार्ट कर पाते हैं|

BIOS

Bios जिसमें सिस्टम और बूट होने पर OS (Operating System) और आपके हार्डवेयर के बीच में एक इंटरफेस के रूप में काम करता है|

Bios कंप्यूटर में कहाँ पाया जाता है?

जैसा कि आप लोग जानते हैं BIOS हमारे कंप्यूटर के अंदर मदरबोर्ड में होती है और इसी वजह से कंप्यूटर मदर बोर्ड पर लगी EEPROM मतलब की Electrically Erasable and Programmable Read Only Memory या फिर फ्लेक्स मेमोरी में संग्रहित लगा होता है वैसे तो यह एक Non – Volatile मेमोरी होता है इसलिए Bios के Unit को आप बहुत ही आसानी से अपडेट भी कर सकते हैं या फिर री-प्रोग्राम भी किया जा सकता है|

Bios की सभी सेटिंग CMOS Chip में स्टोर रहती है और इस CMOS चिप को Cmos के बैटरी से पावर सप्लाई कराई जाती है Cmos जो बैटरी होती है वह डाटा स्टोर करने का काम नहीं करती है।

Also Read:- Jio Phone me whatsapp Kaise chalaye

डाटा स्टोर Cmos Chip करती है लेकिन Cmos बैटरी यह सुनिश्चित कराती है कि कंप्यूटर बंद होने पर Cmos चिप को पावर सप्लाई होता रहे।

क्योंकि अगर ऐसा नहीं होगा तब आपके द्वारा आपका कंप्यूटर बंद होने के बाद जब आप उसे फिर से Open करेंगे तब आपका डेट और टाइम बदल जाएगा Cmos बैटरी का मुख्य काम यही होता है कि जब कंप्यूटर बंद हो तब भी Cmos चिप को
Cmos बैटरी पावर सप्लाई कराती रहे|

Bios के कितने प्रकार होते है? Types of BIOS in Hindi

Bios के मुख्य दो प्रकार होते हैं UEFI Bios और Legacy Bios यह दोनों क्या होते हैं इन दोनों का काम क्या होता है इन दोनों का मतलब क्या है इसके बारे में विस्तार रूप से जानते हैं –

UEFI BIOS

UEFI का मतलब होता है Unified Extensible Firmware Interface और UEFI Bios का उपयोग आजकल के स्मार्ट कंप्यूटर में किया जा रहा है UEFI Bios की सबसे खास बात यह है कि यह 2.2 TB या उससे भी अधिक स्टोरेज क्षमता वाली ड्राइवर उसको भी आराम से Control कर सकता है और UEFI Bios की यही है सबसे खास बात है और Apple के Mac पीसी द्वारा किसी भी Bios का उपयोग नहीं किया गया है|

Legacy Bios

Legacy Bios का इस्तेमाल पुराने मदरबोर्ड या कम स्टोरेज क्षमता वाली Drivers को भी Control करने के लिए किया जाता है और यह Bios System 2.1 TB से कम स्टोरेज क्षमता वाली Drivers को भी कंट्रोल करने की क्षमता रखती है|

How to Access Bios Setting in Hindi

जैसा कि आप जानते हैं Bios हार्डवेयर सेटिंग Configure करने का एक बेहद महत्वपूर्ण तरीका है इसलिए Bios सेटिंग को एक्सेस करने के बारे में हमें जरूर से जानकारी होनी चाहिए Bios को एक्सेस करने के लिए हम कुछ key Combination का इस्तेमाल कर सकते हैं।

अक्सर ऐसा देखा गया है कि कई Bios निर्माता के अनुसार यह key Combination अलग अलग हो सकते हैं Computer Bios kya Hai यह तो आपने जान लिया अब हम इस पोस्ट के दौरान कितनी भी कंपनी है उन सब के Bios Key Combination जानेंगे।

Bios Key Combination By Manufacturer

  • ASRock : F2 or DEL
  • Acer : F2 or DEL
  • ASUS : F2 For All PCs, F2 or DEL
  • Dell : F2 or F12
  • ESC : DEL
  • HP : ESC or F10
  • Lenoevo Desktop : F1
  • Lenevo Thinkpads : Enter + F1
  • Lenevo : F2 or Fn + F2
  • MSI : DEL For Motherboard and Pcs
  • Origin PC : F12
  • Samsung PC : F12
  • Sony : F1,F2,F3
  • Toshiba : F2

यह थे सारे कंपनी की Manufacturer Bios Key Combination आप अपने Manufacturer Bios Keys के अनुसार कंप्यूटर के स्टार्ट होने से पहले ही इसको Press करके रखोगे तब आप अपने कंप्यूटर की Bios सेटिंग्स को ओपन कर सकते हैं।

दोस्तों यदि आपके कंप्यूटर की यह Keys काम नहीं करती है या फिर आप इन सारे Key Combination को नहीं प्रेस कर पा रहे हैं और इसके पहले ही आपका Computer स्टार्ट हो जाता है तब भी आप Bios Setting को ओपन कर सकते हैं वह कैसे करना है आइए जानते हैं।

  • सबसे पहले आप अपने सेटिंग्स पर जाएं।
  • इसके बाद आपके सामने एक लिस्ट को लिखिए उस लिस्ट में आप Update & Security पर क्लिक करेंगे।
  • इसके बाद आपके सामने एक Recovery का ऑप्शन दिखेगा उस पर आप क्लिक करेंगे।
  • इसके बाद आप Choose ‘Restart Now’ पर क्लिक करेंगे।
  • अब आपका कंप्यूटर स्टार्ट होगा कंप्यूटर के रीसेट होने के बाद अपने मैन्यू से “Troubleshoot” पर क्लिक कर देंगे।
  • इसके बाद आपको ‘ Advanced Option” पर क्लिक करना है इसके बाद अब आप UEFI
  • Firmware Setting को चुन लेंगे।

अगर आप Linux या Ubuntu OS उपयोग करते हैं और आप अपने कंप्यूटर में Bios सेटिंग को खोलना चाहते हैं तो आप Command Prompt पर “ Sudo Systematic Reboot-Firmware” दबाकर अपने कंप्यूटर में Bios सेटिंग को खोल सकते हैं।

How To Update Bios in Computer in Hindi

bios ko update kaise kare

हमारा कंप्यूटर भविष्य में आने वाले नए नए सॉफ्टवेयर और हार्डवेयर को चलाने में अगर सक्षम नहीं हो पाते तब जाकर हमें Bios को अपडेट करने की जरूरत पड़ जाती है ध्यान दें Bios कंप्यूटर का काफी महत्वपूर्ण हिस्सा है।

इसलिए इसे अपडेट करने की जरूरत पड़े तभी अपडेट करें अगर इसे अपडेट करने के दौरान आपसे गलती हो जाती है तो आपका सिस्टम डैड भी हो सकता है।

Also check:- DuckDuckGo Kya hai in Hindi

इसलिए इस इस बात का ध्यान दें और कंप्यूटर में Bios को अपडेट करने के लिए 2 तरीके बताए गए हैं जो मैं आपको एक – एक करके बताऊंगा जो कि इस प्रकार है –

1. विंडोज़ के द्वारा Bios अपडेट करें

सबसे पहले आपको यह करना है कि आपके कंप्यूटर में जिस भी कंपनी का आप का मदरबोर्ड होगा उस कंपनी के ऑफिशियल वेबसाइट में आपको जाना है और वहां से अपने मदरबोर्ड का लेटेस्ट।

Bios डाउनलोड करना है इसके बाद आपको अपने Bios की ऑफिशियल यूटिलिटी चलानी है और वहां आपको अपडेट का ऑप्शन दिखाई देगा वहां से आप अपने सेटअप को आसानी से चला सकते हैं और अपने Bios को अपडेट कर सकते हैं।

2. डायरेक्ट तरीके से Bios को अपडेट करना

Bios को डायरेक्ट तरीके से अपडेट करने का तरीका यह है कि सबसे पहले आपको एक पेन ड्राइव लेना है और उसमें आपको Bios का फुल सेटअप डालना है।

जो आपने इसके ऑफिशियल वेबसाइट से डाउनलोड किया था और जब आप अपने फाइल को डाउनलोड करेंगे तो इस बात का ध्यान जरूर रखें कि आपका फाइल Extract होना चाहिए यानी कि आप Zip फाइल में डाउनलोड करेंगे और उसे Extract कर लेंगे।

इसके बाद आपको कंप्यूटर को रीस्टार्ट करके Bios को खोलना है और फिर एडवांस ऑप्शन में जाकर Bios को डायरेक्ट अपडेट कर देना है|

Bios को रिसेट कैसे करे? How to Reset Bios in Hindi

अब तक की आपने Bios के बारे में सारी जानकारी जान ली है अब सवाल आता है कि Bios को रिसेट कैसे करें इसमें बहुत सारे लोग परेशान होते हैं बहुत सारे लोगों को Bios को रिसेट नहीं करने आता है तो मैं आपको बताऊंगा कि Bios को रिसेट कैसे करते हैं|

  • सबसे पहले आपको अपने पावर बटन को 10 सेकंड तक दबाए रखना है और ध्यान देना है जब तक आपका पूरा सिस्टम बंद ना हो जाए तब तक आपको अपने पावर बटन को दबाए रखना है।
  • इसके बाद आपको अपने कंप्यूटर को रिसेट करना है।
  • आपका कंप्यूटर जैसे ही रीसेट होता है उसी के बाद आपको अपने कंप्यूटर में Bios Keys को डालना है।
  • इसके बाद आपको “Restore Defaults” पर क्लिक करना है।
  • इसके बाद सीधा आपको F10 दबाना है और सभी परिवर्तनों को शेयर करने के लिए आपको इंटर दबाना है और इसके बाद आप Bios स्क्रीन से बाहर निकल जाएंगे।
  • अब आपके Bios सेटिंग से रिसेट हो चुकी है।

FAQ on Bios

Q1. मेरे पास किस तरह का Bios है?

Bios के बारे में जानकारी लेने के लिए सिस्टम इनफार्मेशन पैनल का उपयोग करके आप अपने
Bios के वर्जन के बारे में जानकारी ले सकते हैं आप सिस्टम इनफार्मेशन विंडोज में Bios का नंबर
भी जान सकते हैं Bios का वर्जन जानने के लिए आपको Wndows+R को दबाना है और रनबॉक्स
में “msinfo32”को दबा देना है इसके बाद आपको इंटर पर क्लिक कर देना इसके बाद आपके
सामने आपका Bios वर्जन दिखाई दे देगा|

Q2. BIOS का पूरा नाम क्या है?

Bios का पूरा नाम है Basic Input/Output System

Q3. कंप्यूटर बिना Bios के Boot हो सकता है?

चूँकि बिना Bios के कंप्यूटर स्टार्ट नहीं होता है इसलिए Bios Basic OS की तरह है जो की हमारे
कंप्यूटर के Basic Components को आपस में जोड़ने का काम करता है और इसे बूट करने की
अनुमति प्रदान कराता है Main OS लोड होने के बाद भी यह Main Components से बात करने के
लिए अभी भी Bios का उपयोग कर सकता है|

Conclusion

Computer Bios Kya Hai और इसका काम क्या है यह कहां Stored होता है इसे हम कैसे अपडेट कर सकते हैं और इसे हम कैसे एक्सेस कर सकते हैं यह सारा मैंने आपको स्टेप बाय स्टेप बता दिया है मैं आशा करता हूं आपको इस पोस्ट को पढ़कर मदद मिली होगी।

कंप्यूटर आज के समय में सभी लोग चलाना जानते हैं और चलाते भी है लेकिन बहुत सारे ऐसे लोग हैं जिनको अब तक Bios क्या होता है।

नहीं पता है इसके बारे में जानकारी होना आप लोग के लिए बहुत जरूरी है ताकि आगे चलकर आपके कंप्यूटर में कोई भी समस्या आती है तो आप उस समस्या के बारे में जानकारी ले और उस समस्या को आप ठीक कर सके इसीलिए आपको हर एक Computer के बारे में जानकारी होनी बहुत जरूरी है।

Bios कंप्यूटर का एक बेहद महत्वपूर्ण हिस्सा इसलिए इसके बारे में जानकारी होना आप लोग के लिए बहुत जरूरी है|